संसदीय सचिव ने किया जनऔषधि केंद्र का शुभारंभ
संसदीय सचिव ने किया जनऔषधि केंद्र का शुभारंभ

कोरिया । संसदीय सचिव एवं बैकुंठपुर विधायक श्रीमती अम्बिका सिंहदेव ने आज जिला चिकित्सालय परिसर में रेडक्रॉस सोसाइटी अंतर्गत जन औषधि केंद्र का शुभारंभ किया। जनऔषधि केंद्र के संचालन से सस्ती दरों में जेनेरिक दवाइयां आमजनों को उपलब्ध होंगी। यह जन औषधि केंद्र 24 घंटे संचालित होगा जिससे मरीजों को किसी भी समय दवाइयां प्राप्त हो सकेंगी। इस दौरान कलेक्टर श्री श्याम धावड़े, मुख्य कार्यापालन अधिकारी श्री कुणाल दुदावत एवं मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ रामेश्वर शर्मा भी उपस्थित रहे। कलेक्टर श्री धावड़े के द्वारा सीएमएचओ को रेडक्रॉस सोसाइटी के अन्तर्गत जनऔषधि केंद्र शुरू करने के निर्देश दिए थे। एक माह के भीतर ही आवश्यक प्रक्रिया पूर्ण करते हुए जनऔषधि केंद्र की शुरुआत की गई है। कलेक्टर ने गुणवत्तापूर्ण दवाइयां ही लोगों को उपलब्ध कराने निर्देशित किया है। जन औषधि केंद्रों में केवल जेनेरिक दवाइयां रखना अनिवार्य होगा।

जेनरिक एवं ब्रॉडेड दवा का सॉल्ट समान – किसी एक बीमारी के ईलाज के सभी तरह के खोज और अनुसंधान के बाद एक केमिकल (सॉल्ट) तैयार किया जाता है जिसे आसानी से उपलब्ध करवाने के लिए दवा का रूप दे दिया जाता है। इस सॉल्ट को हर कंपनी अलग-अलग नामों से बेचती है, लेकिन इस सॉल्ट का जेनरिक नाम सॉल्ट के कम्पोजिशन और बीमारी का ध्यान रखते हुए एक विशेष समिति द्वारा नाम तय किया जाता है। किसी भी सॉल्ट का जेनरिक नाम पूरी दुनिया में एक ही रहता है। जेनरिक दवायें ब्रॉडेड दवाईयों से सस्ती होती हैं क्योंकि जेनरिक दवाईयों की कीमत तय करने के लिए सरकारी हस्तक्षेप होता है। इनका इस्तेमाल, असर सब ब्रांडेड दवाओं जैसा ही होता है।

न्यूज़ अपडेट