बलरामपुर 11 जून 2021

छत्तीसगढ़ शासन की महत्वाकांक्षी गोधन न्याय योजना शासन द्वारा कृषकों के आय में वृद्धि करने के उद्देष्य से संचालित किया जा रहा है। इसके तहत् जिले के विकासखण्ड बलरामपुर के आदर्ष गौठान ‘‘जाबर‘‘ में कुल 41 पशुपालकों से 844.87 क्विंटल गोबर क्रय किया गया। महिला स्व सहायता समूह द्वारा क्रय किये गये गोबर से कुल 369.27 क्विंटल वर्मी कम्पोस्ट खाद तैयार किया गया है। तैयार वर्मी कम्पोस्ट खाद को विक्रय कर महिला स्व सहायता समूह की महिलाओं को 3 लाख 61 हजार रूपये की आमदनी प्राप्त हुई है। गोधन न्याय योजना के तहत उत्पादित वर्मी कम्पोस्ट खाद आदिम जाति सेवा सहकारी समिति मर्यादित बलरामपुर द्वारा क्षेत्र के कृषकों को विक्रय किया जा रहा है। महिलाएं आर्थिक रूप से मजबूत हों, इस मंषा के साथ राज्य शासन गौठान में अन्य गतिविधियों का संचालन कर गौठान में ही रोजगार उपलब्ध कराने में प्रयासरत है।

आदर्ष गौठान जाबर में कृषि/उद्यानिकी/पशुपालन एवं राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिषन के तहत गौठान प्रबंधन समिति एवं इससे जुड़ी सीताफल महिला स्व सहायता समूह द्वारा 02 वर्मी टांका में 1.50 क्विंटल केचुंआ खाद उत्पादन कर 39 हजार 375 रूपये का विक्रय किया गया। इसी प्रकार गन्ना महिला स्व सहायता समूह द्वारा 600 बैग की क्षमता वाला मषरूम हट का निर्माण कर 16 हजार रूपये का विक्रय किया गया तथा नींबू महिला स्व सहायता समूह द्वारा सब्जी फसल जैसे-टमाटर, आलू, लौकी एवं मिर्च की खेती कर 15 हजार 580 रूपये का विक्रय किया गया एवं रौषनी महिला स्व सहायता समूह द्वारा 500 पेटी में शहद का उत्पादन कर 40 हजार रूपये का विक्रय किया गया।

इसे भी पढ़ें
लेमन ग्रास एवं खस की कृषि का नवाचार किसानों के लिए बना है फायदा

साथ ही साथ कैलाष महिला स्व सहायता समूह द्वारा बटेर पालन कर 37 हजार 500 रूपये का विक्रय किया गया। इस तरह गौठान में आर्थिक गतिविधियां कर महिलाओं का आर्थिक लाभ की प्राप्ति हो रही है। साथ ही साथ गौठान के फेंसिंग में फलदार वृक्ष का रोपड़ किया गया जिससे गौठान प्रबंधन समिति एवं महिला स्व सहायता समूह को भविष्य में आर्थिक लाभ प्राप्त होगा।