रायगढ़, 7 मई2021

जिले के अंतर्गत संचालित सभी उद्योगों को अपने उद्योग परिसर में ही बाहर से आने वाले मरीजों मजदूरों के लिए क्वॉरेंटाइन सेंटर बनाना होगा। जिले मे कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने उद्योगों को कोविड प्रोटोकोल एवं गाइडलाइन का पूर्ण रूप से पालन करना होगा।
उक्त बातें कलेक्टर श्री भीम सिंह ने आज जिले के उद्योग संचालकों की वर्चुअल बैठक में कहीं। कलेक्टर श्री भीम सिंह ने जिले के वर्तमान कोरोना संक्रमण की स्थिति पर चर्चा करते हुए कहा कि दूसरे राज्य से मजदूर विभिन्न उद्योगों में आते हैं। इससे कोरोना संक्रमण तेजी से फैलने की बातें सामने आ रही है। इसमें उद्योग संचालकों को उद्योग परिसर के अंदर ही क्वॉरेंटाइन सेंटर का निर्माण करना होगा। इसमें दूसरे राज्य से आने वाले मजदूरों द्वारा 72 घंटे के भीतर की आरटीपीसीआर जांच रिपोर्ट लाना होगा, यदि रिपोर्ट नेगेटिव है तो उनसे सीधा कार्य लिया जा सकता है, लेकिन यदि रिपोर्ट नहीं है तो उन्हें 7 दिनों के लिए क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखने की व्यवस्था करनी होगी। इसी तरह लक्षण युक्त मजदूरों की जांच कराने और उन्हें होम आइसोलेशन या अस्पताल में एडमिट कराने की व्यवस्था करनी होगी।
कलेक्टर श्री सिंह ने लक्षण वाले मजदूर को अलग सेंटर और सामान्य मजदूरों को अलग क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखने के निर्देश दिए। कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि जिले के उद्योग संचालकों का हमेशा से ही सहयोग मिलता रहा है। इस महामारी काल में भी उद्योग संचालकों से सहयोग की अपेक्षा है। बैठक के दौरान कुछ उद्योग संचालक तराईमाल एवं पूंजीपथरा में कोरोना जांच सेंटर खोलने की मांग की, जिस पर कलेक्टर श्री सिंह ने सीएमएचओ डॉ.एस.एन.केसरी को जांच सेंटर स्थापित करने के निर्देश दिए। इसी तरह कुछ उद्योग संचालकों ने कुछ मात्रा में उद्योगों को भी ऑक्सीजन सिलेंडर की सप्लाई करने की मांग की, जिस पर कलेक्टर श्री सिंह ने वर्तमान परिदृश्य को देखते हुए ऑक्सीजन सिलेंडर सप्लाई प्रतिबंधित रखने और आने वाले दिनों में इसकी खपत की समीक्षा कर जरूरत के हिसाब से शासन के निर्देश अनुरूप कार्य करने की बात कही। बैठक में जिले के प्रमुख उद्योगों के अधिकारी, जिला उद्योग प्रबंधक श्री उइके सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
स.क्र./26/राहुल

इसे भी पढ़ें  पहला टीका लगवाने वालों की संख्या दो करोड़ पार

Source: http://dprcg.gov.in/