रायगढ़ : एकजुटता बनी ताकत, बिहान से जुड़कर महिलाएं हो रही आत्मनिर्भर
रायगढ़ : एकजुटता बनी ताकत, बिहान से जुड़कर महिलाएं हो रही आत्मनिर्भर

मन में विश्वास और कुछ करने का जुनून हो तो कोई भी आपको सफलता पाने से नहीं रोक सकता, यही कर दिखाया ग्राम राबो की महिलाओं की एकजुटता ने। जिन्होंने कुछ साहस दिखाया और स्व-सहायता समूह का हिस्सा बनने के लिए सामाजिक भय को दूर किया। सबसे पहले केवल तीन स्व-सहायता समूह थे जो बचत ऋण गतिविधि के कारण बहुत अधिक कार्यात्मक नहीं हैं। समय के साथ अधिकांश महिलाओं ने स्व-सहायता समूह की बैठकों में भाग लेना भी बंद कर दिया। लेकिन कुछ महिलाओं ने अपनी आशा नहीं खोई और कड़ी मेहनत की, उन्होंने एसएचजी में और अधिक महिलाओं को लाने के लिए सृजन महिला संघ तमनार और प्रदान, बिहान के कर्मचारी से कुछ मदद मिली और आखिरकार उन्हें सफलता मिली। राबो गांव की सभी महिलाओं को 9 एसएचजी बनाने के लिए एक साथ लाने में सक्षम थे। उसके बाद उन्होंने सभी 9 एसएचजी सहित जय सियाराम ग्राम संगठन नाम से एक ग्राम स्तरीय संगठन बनाया है और विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करने और एसएचजी को आजीविका से जोडऩे के लिए महीने में एक बार बैठना शुरू कर दिया है।

समय बीतने के साथ जय सियाराम ग्राम संगठन के सदस्यों ने विश्वास हासिल किया और लगभग 90 से अधिक महिलाओंं के समर्थन के साथ, पंचायत स्तर की बैठकों में अपने मुद्दों को उठाना शुरू कर दिया और पीआरआई सदस्यों ने भी उनका समर्थन किया। उन्होंने मिलकर गोठान में वर्मी कम्पोस्ट उत्पादक के रूप में काम करना शुरू किया जिससे उनका आत्मविश्वास बढ़ा। इस योजना ने न केवल उन्हें सक्रिय बनाया बल्कि उनके ग्राम संगठन को मजबूत करने में भी मदद की। अब तक सभी 9 एसएचजी पंचायत, गोठान समिति, आरईएओ सविता भारती की मदद से वर्मी कम्पोस्ट का उत्पादन कर रहे हैं, जिन्होंने एसएचजी सदस्यों के साथ भी बहुत मेहनत की है और उन्होंने मूल रूप से 23 हजार रुपये का लाभ कमाया है। राशि तो कम थी लेकिन इससे उनका हौसला और बढ़ा, कोई सोच भी नहीं सकता कि वे वर्मी उत्पाद के अपने पहले बैच को बेचकर कितने खुश थे। एसएचजी सदस्यों की रुचि और मेहनत को देखकर पंचायत व अन्य विभाग उनकी मदद के लिए हमेशा तैयार रहते हैं।

इसे भी पढ़ें  रायगढ़: मुख्यमंत्री वृक्षारोपण प्रोत्साहन योजना के तहत भिखारीमाल में हुआ वृक्षारोपण : कलेक्टर श्री भीम सिंह ने लगाया बेहड़ा का पौधा

कलेक्टर श्री भीम सिंह जब राबो गोठान आये और उनकी मेहनत को देखकर बहुत खुश हुए। उन्होंने अन्य गतिविधियों जैसे सिलाई, कढ़ाई, झाडू बनाना, बांस की वस्तुएं आदि उत्पादों से भी जुडऩे की बात कही। चूंकि गोठान को मॉडल गोठान के रूप में भी चुना गया था, जय सियाराम ग्राम संगठन की अत्यधिक प्रेरित महिलाओं ने गोठान को एक बहु गतिविधि केंद्र बनाने के लिए अन्य गतिविधियों की तलाश करने का फैसला किया। उन्होंने ग्राम संगठन में साबुन, डिटर्जेंट और फिनाइल बनाने, मोमबत्ती उत्पादन इकाई, अगरबत्ती उत्पादन इकाई, मशरूम उत्पादन इकाई, सिलाई कढ़ाई केन्द्र, सब्जियों के लिए नर्सरी इकाई, गेंदा फूल की खेती, ग्राफ्टिंग कार्य, मछली पालन जैसी गतिविधियाँ शुरू करने का निर्णय लिया है। सफलता की ओर पहला कदम बढ़ाते हुए उन्होंने प्रिंटिंग प्रेस के लिए एक प्रस्ताव तैयार किया और कलेक्टर के सामने प्रस्तुत किया। जिससे उन्हें सकारात्मक प्रतिक्रिया भी मिली।