केंद्रीय अल्पसंख्यक मंत्री ने प्रेस कांफ्रेस में कहा कि केंद्र सरकार छोटे – छोटे स्किल को बढ़ावा दे कर स्थानीय स्तर पर बेरोजगारी को समाप्त करेगी. शोल्प्कारों, बुनकरों, रसोइयों को हुनर हाट के जरिये रोजगार के अवसर दिया उपलब्ध कराया जाएगा. इस हुनर हाट का आयोजन पुरे देश में किया जायेगा. पांच साल के कार्यकाल में 100 हुनर हाट आयोजन करने का लक्ष्य मंत्रालय की ओर से रखा गया है.

इस दृष्टी से हुनर हाट 1 से 10 नवम्‍बर, 2019 तक प्रयागराज (यू.पी.) के नॉर्थ सैंट्रल जोन कल्‍चरल सेंटर में आयोजित किया जायेगा। इस हाट में देश के सभी हिस्‍सों से 300 शिल्‍पकार और  रसोइए भाग लेंगे।

 श्री नकवी ने कहा कि प्रयागराज में आयोजित होने वाले हुनर हाट में स्वदेशी हस्तनिर्मित उत्‍पाद जैसे असम के बांस व जूट उत्पाद, वाराणसी सिल्क, लखनऊ की चिकनकारी, सिरेमिक, कांच के बने सामान व चर्म उत्‍पाद, उत्तर प्रदेश के पारंपरिक हस्तशिल्प, उत्तर पूर्वी क्षेत्र के पारंपरिक हस्तशिल्प, गुजरात से बंधेज, मिट्टी का काम व तांबा उत्पाद, आंध्र प्रदेश से कलमकारी और मंगलागिरी, राजस्थान से संगमरमर की कलाकृतियां और हस्तशिल्प, बिहार से मधुबनी पेंटिंग, हिमाचल प्रदेश और कर्नाटक से लकड़ी का काम, मध्य प्रदेश से ब्लॉक प्रिंट, पुदुचेरी से आभूषण और मोती, तमिलनाडु से चंदन के उत्पाद, पश्चिम बंगाल से हाथ की कढ़ाई वाले उत्पाद, कश्मीर-लद्दाख की दुर्लभ आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां आदि प्रदर्शित किए जाएंगे। आगंतुक देश के हर कोने के पारंपरिक व्यंजनों का भी आनंद लेंगे।

इसे भी पढ़ें  CBSE- 12वीं के परीक्षा परिणाम घोषित...यहां देख सकते हैं अपने नतीजे...

इसके अलावा, पारंपरिक सांस्कृतिक कार्यक्रम, कव्‍वाली, सूफी संगीत, कविता पाठ आदि प्रसिद्ध कलाकारों द्वारा प्रस्तुत किए जाएंगे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *