रायपुर : खरीफ कार्यक्रम वर्ष - 2021 की तैयारी
रायपुर : खरीफ कार्यक्रम वर्ष - 2021 की तैयारी
  • कलेक्टर ने खाद्य, कृषि एवं सहकारिता विभाग के अधिकारियों ली बैठक 
  • समितिवार शिविर लगाकर खाद- बीज का वितरण करने के निर्देश
  • जिले में है खाद-बीज का पर्याप्त भंडारण

    रायपुर 02 जून 2021

 कलेक्टर डॉ एस भारतीदासन ने आज यहां जिला कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में कृषि, खाद्य, सहकारिता, मार्कफेड और कॉपरेटिव बैंक के अधिकारियों की बैठक लेकर खरीफ वर्ष 2021 की तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने रायपुर जिले को दिए गए लक्ष्य समय सीमा में पूरे करने के निर्देश दिए।

    कलेक्टर ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि जिले में समितिवार खाद, बीज एवं वर्मी कंपोस्ट के वितरण हेतु रोस्टर बनाकर शिविर लगाया जाए। इसके लिए उन्होंने 15 दिवस का रोस्टर बनाकर 4 जून से वितरण की कार्यवाही सुनिश्चित करने को कहा। उन्होंने किसानों को कृषि संबंधी नवीन तकनीकों की जानकारी भी देने को कहा।

फसल परिवर्तन हेतु धान के प्रचलित किस्म के बदले अन्य फसल लगाने 4227 हेक्टेयर का अतिरिक्त लक्ष्य

    रायपुर जिले में खरीफ वर्ष 2021 हेतु फसल क्षेत्राच्छादन का कुल लक्ष्य 1,64,514 हेक्टेयर है, जिसमें अनाज फसलें 1,59,870 हेक्टेयर में, दलहनी फसलें 969 हेक्टेयर में, तिलहनी फसले 777 हेक्टेयर में तथा 2898 हेक्टेयर में सब्जी एवं अन्य फसलों का कार्यक्रम लिया गया है। फसल परिवर्तन हेतु धान के बदले मक्का, दलहन एवं तिलहन फसल लिये जाने हेतु 1000 हेक्ट. एवं धान के प्रचलित किस्म के स्थान पर विशेष किस्म सुंगधित धान, जिंक धान, जैविक धान, दलहन, तिलहन गन्ना एवं अन्य फसल हेतु 3227 हेक्ट, का अतिरिक्त लक्ष्य रखा गया है।

13 हजार क्विंटल बीज एवं 5 हजार 8 सौ से अधिक मि.टन उर्वरक का वितरण हो चुका है अब तक 

इसे भी पढ़ें  वनांचल के अनउपजाऊ तथा बंजर भूमि में 30-40 मॉडल का निर्माण प्राथमिकता से हो

    रायपुर जिले में खरीफ बीज वितरण का लक्ष्य 56,570 कि. के विरुद्ध अब तक 30,945.90 किव. बीज का भण्डारण कर 13,054.70 किवं . बीज का वितरण किया चुका है। खरीफ उर्वरक वितरण का लक्ष्य 67,000 मि.टन के विरुद्ध अब तक 29,450 मि.टन. उर्वरक का भण्डारण कर 5 हजार 8 सौ से अधिक मि.टन. उर्वरक वितरण किया गया है।  जैव उर्वरक वितरण में राइजोबियम, पी.एस.बी., एजेक्टोबैक्टर के 16,800 लिक्विड कल्चर लक्ष्य का निर्धारण किया गया है। 

    विभागीय अधिकारियों ने बताया कि रासायनिक उर्वरक एवं बीज की गुणवत्ता के नियंत्रण हेतु बीज के लक्ष्य 85 के विरूद्ध 96 नमूना लिया गया जिसमें 56 नमूना मानक पाये गये है। शेष नमूना प्रयोगशाला में परीक्षण हेतु शेष है। इसी प्रकार उर्वरक के 30 नमूना लिया गया जिसमें से 08 के परिणाम मानक एवं 01 परिणाम अमानक प्राप्त हुआ है। अमानक ननूने के विरुद्ध विक्रय पर प्रतिबंध लगाया गया है।

    गोधन न्याय योजना अंतर्गत रायपुर जिले में 22,247 क्वि. वर्मी खाद उत्पादित कर 17,272 क्विं. वर्मी खाद का पैकेजिंग पूर्ण कर 11,566 क्विं वर्मी खाद सहकारी समितियों को प्रदाय किया गया है। आगामी दिनों में वर्मी खाद 26,673 किवं. एवं सुपर कम्पोस्ट 1,02,313 क्विं. अनुमानित है।

    उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजनांतर्गत खरीफ वर्ष 2021 हेतु प्रचार-प्रसार किया जाकर 80 हजार कृषकों का लक्ष्य फसल बीमा हेतु निर्धारित किया गया है।

    राजीव गांधी किसान न्याय योजनांतर्गत मैदानी स्तर पर ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी द्वारा फसल का पंजीयन किये जाने हेतु कृषकों से संपर्क कर योजना का प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। इस अवसर पर अपर कलेक्टर, श्रीमती पद्मिनी भोई साहू सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

इसे भी पढ़ें  वर्मी कम्पोस्ट डीएपी खाद का बेहतर विकल्प : भूपेश बघेल

क्रमांक/06-03/कोसरिया

Source: http://dprcg.gov.in/