Dudhadhari Math Mandir Dudhadhari Temple, built in the 17th century, is the oldest temple in Raipur. The ancient mysticism of the temple attracts Lord Rama devotees. Relating to Vaishnavism, the Dudhadhari temple has original sculptures from the Ramayana period. The artifacts of the Ramayana period are very rare, which makes this temple special in its own way. Knowledge is that there was a great (devotees of Swami Hanuman who lived in the name of Swami Ballahdada Das).He survived only on milk (“Dudh-Ahari”) and hence, this temple dedicated to Lord Rama came to be known as Dudhadhari Temple. The outer walls of the temple built by the Kalachur king Jait Singh (1603–1614 A.D.) are decorated with sculptures related to Lord Rama. This ancient temple is a wonderful destination for all pilgrims and art lovers.Balabhadra Das Mahant Hanuman, the founder of the 1000-year-old Dudhadhari Mutt of the capital, was a devotee and one day suddenly disappeared. Since then, important decisions in relation to the monastery are taken in his memorial. The decision to enter the politics of the present Mahant Shyamsunder Das ji was also taken here.

The temple complex has the tomb of Mahant Balabhadra Das. It is a tradition to take all major decisions here. It is said that Balabhadra Das suddenly disappeared one day in the morning. His disciples saw him walking in the morning. When they were nowhere to be found, they were assumed to have taken samadhi. After this, his mausoleum site was constructed and all decisions are taken there today.Another story is prevalent about Dudhadhari Math. Balabhadra Das Mahant, the founder of the monastery, was a great devotee of Lord Hanuman. He considered a piece of stone as Hanuman and started worshiping it with reverence. They bathed that stone with the milk of their cow Surhi and then consumed the same milk. In this way they gave up food and consumed milk for life. In this way Balabhadra Mahanta became a milk diet. Later the place became known as Dudhadhari Math.Saint Garibdas of Jinthra, Rajasthan, had his camp here, saint Balbhadra Das of his tradition. Balabhadra Das was born in Anandpur in Jodhpur district of Rajasthan as the son of Pandit Shambhudayal Gaur but his work place was Raipur in Chhattisgarh. They traveled first to Maharashtra and then to Chhattisgarh. Impressed by his miracles, many kings and emperors became his disciples.He stayed for a long time in the Sri Ram Janaki temple built by Mahant Garibdas in Pavani in Bhandara district. It was here that he made Garibardas his mentor and became Balabhadra Das from Balamukund. After this he came to Raipur.

इसे भी पढ़ें  Mahamaya Mandir

In 1610, Dudhadhari Math was built by King Raghurao Bhosle for Balabhadra Das. The monastery has its own ancient history. This monastery houses temples of many deities. Balaji Temple, Sankat Mochan Hanuman Temple, Rampanchayatan and Veer Hanuman Temple are prominent among them. Ramayana scenes in this temple belonging to the Vaishnava sect have been crafted in an attractive way. Maratha paintings are still present in the temple.

This monastery belongs to the Ramanand community. The monastery has two parts, one in which Lord Balaji is established and the second part is dedicated to Ram Panchayatan. The artwork of different parts of the state can be seen here. According to archaeological experts, the architecture of the building of the monastery is influenced by the Orissa style and the ornamentation here is similar to the Maratha style. Historians say that all the material brought from Sirpur has been used in the construction of the temple.

न्यूज़ अपडेट

न्यूज़ अपडेट

IPL Schedule 2022 Announced

The schedule for the Indian Premier League 2022 (IPL 2022) season has been announced, with Chennai Super Kings set to face Kolkata Knight Riders in the opener at the Wankhede Stadium in Mumbai on March 26. The BCCI announced the full scheduled in a press release on Sunday. “The Board of Control for Cricket in India…

रेडी टू ईट निर्माण

रायपुर। छत्तीसगढ़ में रेडी टू ईट पोषण आहार निर्माण और वितरण व्यवस्था के संबंध में वर्तमान में जारी व्यवस्था मार्च 2022 तक लागू रहेगी। राज्य सरकार द्वारा इस संबंध में जारी की गई नई पॉलिसी का क्रियान्वयन एक फरवरी 2022 से होना था, इसेे अब एक अप्रैल 2022 तक के लिए बढ़ा दिया गया है।…

कोदो, कुटकी और रागी की खरीदी अब 15 फरवरी तक

रायपुर। छत्तीसगढ़ में समर्थन मूल्य पर कोदो, कुटकी और रागी फसलों की खरीदी के लिए समयावधि अब 15 फरवरी 2022 तक बढ़ा दी गई है। इसके पहले इन फसलों की खरीदी के लिए 31 जनवरी तक की तिथि निर्धारित थी। गौरतलब है कि राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में वर्षा होने के कारण मिंजाई में हुई…

मानवीय हस्तक्षेप मुक्त होगी नल कनेक्शन प्रक्रिया

रायपुर। गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ की थीम पर काम करते हुए छत्तीसगढ़ शासन नागरिकों की सुविधाओं का लगातार विस्तार कर रही है। आनलाइन सेवाओं की वजह से नागरिकों के काम घर बैठे हो रहे हैं। इसी कड़ी में अब नल कनेक्शन के लिए भी नागरिकों को नगरीय निकाय कार्यालयों के चक्कर नहीं काटने होंगे। आम नागरिकों…

इसे भी पढ़ें  chirmiri hill station

मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य योजना 21 फरवरी तक सभी शहरों में

रायपुर। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने इस गणतंत्र दिवस पर राज्य के सभी शहरों की स्लम बस्तियों में रहने वालों को एक बड़ी सौगात दी है। अब यहां के रहवासियों को इलाज के लिए अस्पताल जाने या खून की जांच और अन्य स्वास्थ्य परीक्षण के लिए इधर-उधर नहीं भटकना पड़ेगा। अब उनके इलाके में मोबाइल…

अवैध रेत उत्खनन के विरूद्ध सख्त कार्रवाई के निर्देश

रायपुर । मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने अवैध रेत उत्खनन करने वालों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कलेक्टर और एसपी को निर्देश दिए हैं कि किसी भी जिले में अवैध रेत उत्खनन नहीं होना चाहिए। किसी भी जिले से अवैध रेत उत्खनन की शिकायत मिलने पर कलेक्टर और एसपी…

पीएमडी सीजी म्युजिक ने रि-लांच किया अपना चैनल….

पीएमडी सीजी म्युजिक ने दिलीप षडंगी के स्वर में दौना के पान के साथ अपना चैनल रि-लांच किया। आपको बता दें कि पीएमडी सीजी म्युजिक समय समय पर छत्तीसगढ़ी गाने लेकर आते रहा है। पीएमडी सीजी म्युजिक ने एक बार फिर दिलीप षडंगी की आवाज में दौना के पान के साथ अपना चैनल रि-लांच किया…

प्रभारी मंत्री ने किया कला केंद्र भवन का लोकार्पण

सूरजपुर। जिला प्रवास में प्रभारी मंत्री श्री शिव कुमार डहरिया ने आज नगर के वार्ड क्रमांक 16 में बने कला केंद्र भवन का फीता काटकर लोकार्पण किया। तत्पश्चात् माँ सरस्वती की छायात्रित पर पुष्पअर्पित कर दीप प्रज्जवलित किया गया।डा. शिव कुमार डहरिया ने कला केन्द्र के विभिन्न कक्षो का निरक्षण किया, जिसमें गायन कक्ष, नृत्य…

इसे भी पढ़ें  Mahamaya Mandir

​​​​​​​मंत्री श्री भगत ने ‘बुटेका एनीकट’ और ‘मारागांव तटबंध’ का किया निरीक्षण

रायपुर। खाद्य मंत्री एवं गरियाबंद जिले के प्रभारी मंत्री श्री अमरजीत भगत ने ग्राम बेंदकुरा के समीप सोंढूर नदी पर बने बुटेका एनीकट का आकस्मिक निरीक्षण किया। मंत्री श्री भगत 26 जनवरी को जिला मुख्यालय में गणतंत्र दिवस के अवसर पर ध्वजारोहण के पश्चात एनीकट का अवलोकन करने पहुंचे थे। आसपास के ग्रामीणों ने इसके…

उद्योग मंत्री कवासी लखमा ने दिव्यांग को बैटरी चलित ई-ट्राईसायकल प्रदान की

रायपुर। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री और दंतेवाड़ा जिले के प्रभारी मंत्री श्री कवासी लखमा ने बचेली स्थित रेस्ट हाउस परिसर में दिव्यांग श्री राम प्रसाद साहू को बैटरी चलित ई-ट्राईसायकल प्रदान किया। श्री राम प्रसाद साहू बचेली के वार्ड क्रमांक 5 के निवासी है, इससे पहले उन्हें सामान्य ट्राईसायकल उपलब्ध करायी गयी थी। बैटरी चलित…

कथित फर्जी डायरी कांड का 48 घंटे के भीतर पटाक्षेप

रायपुर। स्कूल शिक्षा विभाग के कथित फर्जी डायरी कांड का 48 घंटे के भीतर खुलासा करने पर रायपुर पुलिस का सम्मान किया गया है। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने रायपुर पुलिस के एसपी सहित पूरी टीम की सराहना की है। मंत्री डॉ. टेकाम ने आज सिविल लाईन स्थित पुलिस कंट्रोल रूम पहुंचकर…

इसे भी पढ़ें  Bhoramdev Temple,Kawardha

राज्यपाल को नीट काउंसिलिंग संबंधी अनियमितता के संबंध में ज्ञापन दिया गया

रायपुर। राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके से डॉ. कुलदीप सोलंकी ने भेंट कर राज्य में नीट परीक्षा की काउंसिलिंग की प्रक्रिया में नियमों की अनदेखी किए जाने के संबंध में ज्ञापन सौंपा। उन्होंने कहा कि राज्य में अभी तक इसका रजिस्ट्रेशन शुरू नहीं किया गया है। यहां राज्य की मेरिट लिस्ट जारी किए बिना ही च्वाइस…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *