Raipur-Development-in-Bastar-spreading-like-a-wildfire-Construction-of-roads-and-infrastructure-projects-at-a-rapid-pace
Raipur-Development-in-Bastar-spreading-like-a-wildfire-Construction-of-roads-and-infrastructure-projects-at-a-rapid-pace
  • Dissemination of basic facilities including medical, education, drinking water in villages
  • Rise in Income from Forest Produce and Agriculture- Upliftment in standard of living
  • End to middlemen exploitation – Products being sold at the support price
  • Strengthening of dialogue between the District Administration and villagers
  • Security camps restore normalization in Bastar

Raipur, 24 May 2021

The strategy of establishing security camps in affected areas embraced by the security forces in Bastar District has limited the Naxals in a restricted area. Out of these camps, most of them were set-up in inaccessible and remote areas. Those are the areas where development remained secluded. However, with the advent of these camps, the recent construction of roads is visibly noticeable. This has further led to decongestion of traffic and improved and accessible reach of governance schemes to the last person of the interiors of the left wing extremist (LWE) district. It has revamped the landscape of Bastar.

Securing a befitting reply to the Bastar Naxalites, the security forces had decided to establish their security camps in interiors of dense forests and previously unapproachable mountainous areas. These camps have been set-up after perusing a careful chalked out strategy where each camp can have access to others in times of distress. The establishment of these advanced camps has restricted smooth movement of Naxalites in these areas. The manifold growth of security forces has proved to be a setback for the Naxal movement.

These security camps have rapidly paved a way for development of roads, bridges, culverts and other infrastructural facilities. This has led to faster access to developmental schemes to the last person. Apart from that, the grievances of farfetched villages are reaching the District administration at a prompt pace. This has further improved the grievance resolving mechanism of the district. It has also led to spontaneity in upgradation of basic facilities including medical, health, drinking water and electricity.

इसे भी पढ़ें  जहां विद्युत सुविधा उपलब्ध नहीं, वहां किसानों को सोलर पंप दिए जाएं

The District has strengthened the war against malnutrition, malaria and seasonal diseases through active campaigns. However, since the progress of Bastar is being looked as a hurdle by Naxalites, they are regressively opposing these camps. These camps are often ambushed. The Naxalites even attempt to create misunderstanding among the native villagers and trick them to go against the security forces. Bastar had witnessed a surge in naxal movement due to the lack of communication and dialogue between villagers and the District Administration. Nevertheless, with the establishment of these camps- various new avenues of communication and dialogue are being opened leading to a constructive partnership between the villagers and the administration.

Moreover, the forest dwellers of Bastar region have lately witnessed increased income from forests, farming and allied activities. In comparison to other progressive farmers of various regions of Chhattisgarh, a Bastar villager is getting satisfactory prices. Besides, availing facilities akin to Forest Right Lease, they are also being supported with pond construction, dabri construction, manure-seeds and alike activities.

The development of infrastructural projects after the establishment of security camps has put an end to the concept of middlemen in sale-purchase transactions of forest produce and agricultural activities. The villagers now sell their produce directly at support price fixed by the Government.

The sick and disaster-stricken individuals in the region are coming forward and availing health facilities. This has also pushed for educational reforms. Those schools which were shut by Naxalites in various parts of Bastar division are now hosting and reorganizing educational sessions through virtual mode.   Bastar development story has now become a promising story paving way for new possibilities in Bastar.

इसे भी पढ़ें  बस्तर की जनजातीय संस्कृति के रंग में रंगे दिखाई दिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

719

Source: http://dprcg.gov.in/

न्यूज़ अपडेट

न्यूज़ अपडेट

IPL Schedule 2022 Announced

The schedule for the Indian Premier League 2022 (IPL 2022) season has been announced, with Chennai Super Kings set to face Kolkata Knight Riders in the opener at the Wankhede Stadium in Mumbai on March 26. The BCCI announced the full scheduled in a press release on Sunday. “The Board of Control for Cricket in India…

रेडी टू ईट निर्माण

रायपुर। छत्तीसगढ़ में रेडी टू ईट पोषण आहार निर्माण और वितरण व्यवस्था के संबंध में वर्तमान में जारी व्यवस्था मार्च 2022 तक लागू रहेगी। राज्य सरकार द्वारा इस संबंध में जारी की गई नई पॉलिसी का क्रियान्वयन एक फरवरी 2022 से होना था, इसेे अब एक अप्रैल 2022 तक के लिए बढ़ा दिया गया है।…

कोदो, कुटकी और रागी की खरीदी अब 15 फरवरी तक

रायपुर। छत्तीसगढ़ में समर्थन मूल्य पर कोदो, कुटकी और रागी फसलों की खरीदी के लिए समयावधि अब 15 फरवरी 2022 तक बढ़ा दी गई है। इसके पहले इन फसलों की खरीदी के लिए 31 जनवरी तक की तिथि निर्धारित थी। गौरतलब है कि राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में वर्षा होने के कारण मिंजाई में हुई…

मानवीय हस्तक्षेप मुक्त होगी नल कनेक्शन प्रक्रिया

रायपुर। गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ की थीम पर काम करते हुए छत्तीसगढ़ शासन नागरिकों की सुविधाओं का लगातार विस्तार कर रही है। आनलाइन सेवाओं की वजह से नागरिकों के काम घर बैठे हो रहे हैं। इसी कड़ी में अब नल कनेक्शन के लिए भी नागरिकों को नगरीय निकाय कार्यालयों के चक्कर नहीं काटने होंगे। आम नागरिकों…

इसे भी पढ़ें  कोडरीपाल से ओडिशा जाना हुआ आसान, सीसी सड़क जो बन गई

मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य योजना 21 फरवरी तक सभी शहरों में

रायपुर। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने इस गणतंत्र दिवस पर राज्य के सभी शहरों की स्लम बस्तियों में रहने वालों को एक बड़ी सौगात दी है। अब यहां के रहवासियों को इलाज के लिए अस्पताल जाने या खून की जांच और अन्य स्वास्थ्य परीक्षण के लिए इधर-उधर नहीं भटकना पड़ेगा। अब उनके इलाके में मोबाइल…

अवैध रेत उत्खनन के विरूद्ध सख्त कार्रवाई के निर्देश

रायपुर । मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने अवैध रेत उत्खनन करने वालों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कलेक्टर और एसपी को निर्देश दिए हैं कि किसी भी जिले में अवैध रेत उत्खनन नहीं होना चाहिए। किसी भी जिले से अवैध रेत उत्खनन की शिकायत मिलने पर कलेक्टर और एसपी…

पीएमडी सीजी म्युजिक ने रि-लांच किया अपना चैनल….

पीएमडी सीजी म्युजिक ने दिलीप षडंगी के स्वर में दौना के पान के साथ अपना चैनल रि-लांच किया। आपको बता दें कि पीएमडी सीजी म्युजिक समय समय पर छत्तीसगढ़ी गाने लेकर आते रहा है। पीएमडी सीजी म्युजिक ने एक बार फिर दिलीप षडंगी की आवाज में दौना के पान के साथ अपना चैनल रि-लांच किया…

प्रभारी मंत्री ने किया कला केंद्र भवन का लोकार्पण

सूरजपुर। जिला प्रवास में प्रभारी मंत्री श्री शिव कुमार डहरिया ने आज नगर के वार्ड क्रमांक 16 में बने कला केंद्र भवन का फीता काटकर लोकार्पण किया। तत्पश्चात् माँ सरस्वती की छायात्रित पर पुष्पअर्पित कर दीप प्रज्जवलित किया गया।डा. शिव कुमार डहरिया ने कला केन्द्र के विभिन्न कक्षो का निरक्षण किया, जिसमें गायन कक्ष, नृत्य…

इसे भी पढ़ें  ’वर्किंग वुमेन ट्रांजिट हॉस्टल’ के गृह प्रवेश कार्यक्रम में मुख्यमंत्री हुए शामिल

​​​​​​​मंत्री श्री भगत ने ‘बुटेका एनीकट’ और ‘मारागांव तटबंध’ का किया निरीक्षण

रायपुर। खाद्य मंत्री एवं गरियाबंद जिले के प्रभारी मंत्री श्री अमरजीत भगत ने ग्राम बेंदकुरा के समीप सोंढूर नदी पर बने बुटेका एनीकट का आकस्मिक निरीक्षण किया। मंत्री श्री भगत 26 जनवरी को जिला मुख्यालय में गणतंत्र दिवस के अवसर पर ध्वजारोहण के पश्चात एनीकट का अवलोकन करने पहुंचे थे। आसपास के ग्रामीणों ने इसके…

उद्योग मंत्री कवासी लखमा ने दिव्यांग को बैटरी चलित ई-ट्राईसायकल प्रदान की

रायपुर। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री और दंतेवाड़ा जिले के प्रभारी मंत्री श्री कवासी लखमा ने बचेली स्थित रेस्ट हाउस परिसर में दिव्यांग श्री राम प्रसाद साहू को बैटरी चलित ई-ट्राईसायकल प्रदान किया। श्री राम प्रसाद साहू बचेली के वार्ड क्रमांक 5 के निवासी है, इससे पहले उन्हें सामान्य ट्राईसायकल उपलब्ध करायी गयी थी। बैटरी चलित…

कथित फर्जी डायरी कांड का 48 घंटे के भीतर पटाक्षेप

रायपुर। स्कूल शिक्षा विभाग के कथित फर्जी डायरी कांड का 48 घंटे के भीतर खुलासा करने पर रायपुर पुलिस का सम्मान किया गया है। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने रायपुर पुलिस के एसपी सहित पूरी टीम की सराहना की है। मंत्री डॉ. टेकाम ने आज सिविल लाईन स्थित पुलिस कंट्रोल रूम पहुंचकर…

इसे भी पढ़ें  उत्तर बस्तर कांकेर : धान के बदले दूसरी फसल लेने पर कृषक होंगे लाभान्वित

राज्यपाल को नीट काउंसिलिंग संबंधी अनियमितता के संबंध में ज्ञापन दिया गया

रायपुर। राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके से डॉ. कुलदीप सोलंकी ने भेंट कर राज्य में नीट परीक्षा की काउंसिलिंग की प्रक्रिया में नियमों की अनदेखी किए जाने के संबंध में ज्ञापन सौंपा। उन्होंने कहा कि राज्य में अभी तक इसका रजिस्ट्रेशन शुरू नहीं किया गया है। यहां राज्य की मेरिट लिस्ट जारी किए बिना ही च्वाइस…