rice-procurement
rice-procurement

खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 में जिले में कुल 142633 मेट्रिक टन धान की खरीदी की गई है। जिसमें से 85925 मेट्रिक टन धान मिलरों को तथा शेष धान 56170 मेट्रिक टन जिले के संग्रहण केन्द्रो में भंडारित की गई है। साथ ही अन्य जिले बीजापुर तथा दंतेवाड़ा से भी जिला बस्तर के धान संग्रहण केन्द्रों में भंडारित किया गया है। जिले में कुल 03 धान संग्रहण केन्द्र छोटेदेवड़ा, बिरिंगपाल एवं नियानार है, जहां कुल 124203 से धान संग्रहित है। वर्तमान में जिले के मिलरों को संग्रहण केन्द्र से धान प्रदाय किया जा रहा है।

कलेक्टर श्री रजत बंसल के द्वारा 06 जुलाई को संग्रहण केन्द्र बिरिंगपाल का औचक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण में संग्रहण केन्द्र में धान के उचित रख-रखाव तथा आकस्मिक वर्षा से बचाव हेतु समुचित उपाय नहीं किये जाने पर गहरी नाराजगी व्यक्त की गई। साथ ही खाद्य विभाग को संग्रहण केन्द्र के जांच हेतु निर्देश दिये थे।

खाद्य विभाग द्वारा संग्रहण केन्द्र के जांच में संग्रहण केन्द्र बिरिंगपाल में धान के समुचित रख-रखाव शासन के जारी निर्देशानुसार नहीं पाया गया। संग्रहण केन्द्र में रखे धान के स्टाको का भौतिक सत्यापन किया गया। भौतिक सत्यापन में कुल 2515 बोरे धान की कमी पाई गई है। संग्रहण केन्द्र में मिलरों को धान का परिदान एफआईएफओ (फस्ट इन फस्ट आउट) के अनुसार नहीं किया जाना पाया गया।

खाद्य विभाग के टीम के द्वारा जांच कर संग्रहण केन्द्र के विरूद्ध कार्यवाही हेतु जांच प्रतिवेदन कलेक्टर खाद्य शाखा में प्रस्तुत किया गया है। धान संग्रहण केन्द्र बिरिंगपाल में अनियमितता एवं धान के रख-रखाव में लापरवाही के लिये जिला विपणन अधिकारी सुश्री विनिता चैरासे तथा धान संग्रहण केन्द्र प्रभारी श्री प्रकाशपुरी गोस्वामी को कारण बताओ नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है।

इसे भी पढ़ें  मुख्यमंत्री ने की बस्तर पपीता प्राजेक्ट की लॉन्चिंग