राज्य शासन के निर्देशानुसार जिले में 01 दिसम्बर 2019 से धान खरीदी की प्रक्रिया शुरू हो चुकी थी। कलेक्टर श्री संजीव कुमार झा के निर्देशन में धान खरीदी की प्रक्रिया सुचारू रूप से चल रही है तथा बिचैलियों के अवैध विक्रय के प्रयास पर कार्यवाही जारी है। धान खरीदी प्रक्रिया में अनियमितता न हो, इस उद्देश्य से नोडल एवं सहायक नोडल अधिकारी धान उपार्जन केन्द्रों का सतत् निरीक्षण कर रहें हैं। शासन के निर्देशानुसार उपार्जन केन्द्र के माध्यम से धान खरीदी हेतु कुछ ही समय शेष है। कलेक्टर श्री संजीव कुमार झा ने समिति प्रबंधकों और खरीदी प्रभारी के साथ बैठक कर उन्हें आवश्यक दिशा-निर्देश दिये।

संयुक्त जिला कार्यालय भवन के सभाकक्ष में आयोजित बैठक में कलेक्टर श्री संजीव कमार झा ने खरीदी प्रभारियों से कहा कि किसानों का धान खरीदना है तथा बिचैलियों के धान विक्रय के प्रयास को विफल करना है। बिचैलिये अंतिम दिनों में भी धान विक्रय का प्रयास कर सकते हैं तथा नये-नये तरीके अपनाकर धान को उपार्जन केन्द्रों तक पहुंचा सकते हैं। धान खरीदी प्रभारी पूरी सतर्कता एवं निष्ठा के साथ अपना कार्य करें। कलेक्टर ने खरीदी प्रभारियों तथा समिति प्रबंधकों को सख्त निर्देश देते हुए कहा कि बिचैलियों को किसी भी प्रकार का सहयोग नहीं मिलना चाहिए यदि ऐसे प्रयासों में आपकी संलिप्तता पायी जाती है, तो अपराधिक कार्यवाही की जा सकती है। उन्होंने प्रबंधकों से सभी आवश्यक व्यवस्थाओं जैसे डनेज, कैप कव्हर, बारदाना, नमी मापक यंत्र की उपलब्धता की जानकारी ली। कलेक्टर ने समस्त उपार्जन केन्द्रों में संधारित किये जाने वाले पंजियों को नियमित अद्यतन करने के निर्देश दिये। बैठक में खाद्य अधिकारी श्री एस. काम्टे, नायब तहसीलदार श्री विनीत सिंह सहित समित प्रबंधक, धान खरीदी प्रभारी एवं आॅपरेटर उपस्थित थे।

इसे भी पढ़ें  तीन जनसूचना अधिकारी पर सवा लाख का अर्थदण्ड