कलेक्टर श्री रजत बंसल Rajat Bansal
कलेक्टर श्री रजत बंसल Rajat Bansal

कलेक्टर श्री रजत बंसल ने वर्चुअल बैठक में दिए निर्देश

जगदलपुर 02 जून 2021

कलेक्टर श्री रजत बंसल ने मानमून के दौरान आनेे वाले बाढ़ से होने वाली जन-धन की क्षति को नियंत्रित करने और त्वरित गति से राहत पहुंचाने के निर्देश दिए।

बुधवार को वर्चुअल बैठक में बाढ़ नियंत्रण तथा बचाव और राहत कार्य के लिए कार्ययोजना तैयार की गयी। जिले के जगदलपुर तहसील में इन्द्रावती नदी तथा बस्तर तहसील में मारकण्डी और नारंगी में अतिवर्षा की स्थिति उत्पन्न होने पर बाढ़ की स्थिति उत्पन्न होती है। इसे देखते हुए बाढ़ से प्रभावित होने वाले ग्रामों का चिन्हांकन कर लिया गया है। इन्द्रावती नदी का चेतावनी स्तर 7 मीटर और 8.30 मीटर होने पर खतरे की स्थिति उत्पन्न होती है तथा इन्द्रावती नदी में बाढ़ आने पर बकावंड विकासखंड के ग्राम तारापुर, बनियागांव, बेलगांव, उलनार, कोहकापाल, मालगांव और टलनार प्रभावित होते हैं।

विकासखंड जगदलपुर में ग्राम धनपूंजी, नगरनार, भेजापदर, नदीबोड़ना, नगरनार का मोहल्ला उपनपाल और जगदलपुर शहर प्रभावित होते हैं। विकासखंड लोहंडीगुड़ा में टाकरागुड़ा, बड़ांजी, कुम्हली, बड़े धाराउर, चित्रकोट, चन्देला और ककनार ग्राम प्रभावित होते हैं। नारंगी नदी में बाढ़ आने पर विकासखंड बस्तर के ग्राम पालाबहार, बड़े आमाबाल, कोहका सिवनी, मुण्डागांव, भैंसगांव, मधोता, बाकेल और राजपुर प्रभावित होते हैं। मारकण्डी नदी में बाढ़ से किसी भी ग्राम की आबादी प्रभावित नहीं होती, किन्तु इससे आवागमन कुछ समय के लिए अवरूद्ध हो जाता है। इसे देखते हुए बाढ़ नियंत्रण और बचाव, राहत की कार्ययोजना बनायी गयी है।

बाढ़ नियंत्रण और आपदा प्रबंधन हेतु नियंत्रण कक्ष स्थापित

बस्तर जिले के मुख्यालय जगदलपुर स्थित कलेक्टोरेट में जिलास्तर पर बाढ़ आपदा प्रबंधन येाजना के क्रियान्वयन और नियंत्रण हेतु नए कम्पोजिट भवन के कक्ष क्रमांक-8 में नियंत्रण कक्ष की स्थापना की गई है, जिसका दूरभाष क्रमांक 07782-223122 है। इसके साथ ही पुलिस सहायता केन्द्र 112 एवं नगर सेना के नियंत्रण कक्ष में स्थापित दूरभाष क्रमांक 07782-266170, राजस्व शाखा के प्रभारी अधिकारी, जिला सेनानी, संबंधित क्षेत्र के अनुविभागीय दण्डाधिकारी, तहसीलदार को भी बाढ़ संबंधी सूचना प्रदान की जा सकती है।

प्रत्येक तहसील और ब्लाक मुख्यालय में भी इसी प्रकार नियंत्रण कक्ष की स्थापना करते हुए कर्मचारियों की ड्यूटी लगाने तथा इसकी जानकारी बाढ़ नियंत्रण शाखा को तत्काल उपलब्ध कराने के निर्देश दिये गये हैं। जिला कार्यालय के साथ ही तहसील कार्यालयों में स्थापित सभी बाढ़ नियंत्रण कक्षों में सप्ताह के पूरे सात दिन चैबीसों घंटे के लिए अधिकारियों, कर्मचारियों की तैनाती सुनिश्चित करने के निर्देश भी दिये गये। ये नियंत्रण कक्ष 30 सितम्बर 2021 तक या वर्षा समाप्ति तक 24 घंटे खुले रहेंगे, जो स्थानीय स्तर से शासन स्तर तक समस्त सूचनाओं के आदान-प्रदान में अपनी भूमिका निभायेंगे।

बाढ़ आपदा प्रबंधन के लिए जिला स्तरीय बाढ़ नियंत्रण समिति गठित

बस्तर जिले में बाढ़ आपदा प्रबंधन के लिए जिला स्तर पर बाढ़ नियंत्रण समिति का गठन किया गया है। कलेक्टर की अध्यक्षता में गठित इस समिति में 21 सदस्य हैं। जिनमें पुलिस अधीक्षक बस्तर, सीईओ जिला पंचायत, वन मण्डलाधिकारी, जल संसाधन विभाग के कार्यपालन अभियंता, पंचायत, समाज कल्याण के उप संचालक, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, संयुक्त संचालक पशु चिकित्सा सेवाएं, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास, खाद्य नियंत्रक, जिला शहरी विकास अभिकरण के परियोजना अधिकारी, जगदलपुर नगर निगम के आयुक्त, लोक निर्माण विभाग जगदलपुर के कार्यपालन अभियंता, लोक स्वास्थ्य यंात्रिकी विभाग के कार्यपालन अभियंता, छत्तीसगढ़ विद्युत वितरण कंपनी के कार्यपालन अभियंता, नगर दण्डाधिकारी, नगर सेना के जिला सेनानी, जिला शिक्षा अधिकारी, संयुक्त संचालक जनसंपर्क, रोटरी क्लब के अध्यक्ष, लायन्स क्लब जगदलपुर, चेम्बर आॅफ काॅमर्स के अध्यक्ष इसके सदस्य हैं।

इसे भी पढ़ें  प्रमुख सचिव ने किया निर्माणाधीन सुपर स्पेशियलिटी एवं मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण

वहीं राजस्व शाखा कलेक्टोरेट के प्रभारी अधिकारी बाढ़ नियंत्रण समिति के सचिव हैं। जिला अध्यक्ष द्वारा जनप्रतिनिधियेां के साथ बैठक कर बाढ़ आपदा राहत से निपटने की जानकारी देने के साथ उनसे सुझाव प्राप्त किया जाएगा। इसी तरह अनुविभाग स्तर पर अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, आपदा प्रबंधन समिति का गठन करेंगे।

बाढ़ की स्थिति उत्पन्न होने पर प्रभावित परिवार को पहुंचाने के लिए जिला कार्यालय में दो ट्रक हमेशा तैयार रखने के साथ ही वाहन चालकों के मोबाईल नम्बर आदि की जानकारी रखने को कहा गया। बाढ़ नियंत्रण कार्य में मिट्टीतेल और डीजल के लिए कोई समस्या उत्पन्न न हो इस हेतु खाद्य नियंत्रक जगदलपुर को मिट्टीतेल और डीजल का पर्याप्त भण्डारण सुरक्षित रखने हेतु निर्देशित किया गया है। बाढ़ के समय ’’फूड-पैकेेट’’ उपलब्ध कराने हेतु ’’केटरर्स’’ को निर्देशित किया गया है। बैठक में सभी विभाग वर्षाकाल के समय अत्यधिक सचेत रहने को कहा गया। साथ ही कहीं से भी अथवा मैदानी अमले से बाढ़ और रास्ता बंद होने की सूचना प्राप्त होने पर तत्काल बाढ़ नियंत्रण कक्ष को सूचित करने को कहा गया।

16 स्थानों पर बनेंगे अस्थायी शिविर

बाढ़ प्रभावित ग्रामों में प्रभावित व्यक्तियेां के लिए 16 स्थानों पर अस्थायी शिविर स्थापित किए जाएंगे। जिसमंें बाढ़ प्रभावितों को अस्थायी रूप से रखा जाएगा। स्थापित होने वाले प्रत्येक अस्थायी शिविर के लिए एक प्रभारी अधिकारी अभी से नामजद कर दिया गया है। धनपूंजी और भेजापदर में बाढ़ की स्थिति मेें धनपूंजी के प्राथमिक शाला भवन में स्थापित होने वाले अस्थायी शिविर में लोगों को रखा जाएगा तथा इसके लिए जनपद पंचायत जगदलपुर के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को प्रभारी अधिकारी बनाया गया है। नगरनार और उपनपाल क्षेत्र के लोगों को रखने के लिए नगरनार स्थित प्राथमिक शाला भवन को चिन्हांकित कर कृषि विभाग के उप संचालक को प्रभारी अधिकारी बनाया गया है।

जगदलपुर शहर के पुत्रीशाला में स्थापित होने वाले अस्थायी शिविर के लिए श्रम पदाधिकारी को, गोयल धर्मशाला में स्थापित होने वाले अस्थायी शिविर के लिए अनुविभागीय अधिकारी (वन) को, भगतसिंह स्कूल लालबाग जगदलपुर में स्थापित होने वाले अस्थायी शिविर के लिए जनपद पंचायत जगदलपुर के सहायक अभियंता श्री सोन केसरी तथा उत्कल भवन के अस्थायी शिविर के लिए मत्स्य पालन विभाग के उप संचालक, प्राथमिक शाला भवन आसाना में स्थापित होने वाले अस्थायी शिविर के लिए प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के कार्यपालन अभियंता, मंगल भवन नया मुण्डा में स्थापित होने वाले अस्थायी शिविर के लिए आदिवासी विकास विभाग के सहायक आयुक्त, प्राथमिक शाला भवन पनारापारा में स्थापित होने वाले अस्थायी शिविर के लिए जगदलपुर के खण्ड शिक्षा अधिकारी, प्राथमिक शाला भवन पथरागुड़ा में स्थापित होने वाले अस्थायी शिविर के लिए रोजगार उप संचालक को प्रभारी अधिकारी नियुक्त किया गया है।

बड़ांजी और कुम्हली में बाढ़ की स्थिति आने पर लोगों के लिए तराई भाटा प्राथमिक शाला भवन को अस्थायी शिविर के रूप में चिन्हांकित कर ग्रामीण यांत्रिकी सेवा के लोहण्डीगुड़ा अनुविभागीय अधिकारी को प्रभारी अधिकारी बनाया गया है। टाकरागुड़ा में बाढ़ आने पर प्राथमिक शाला भवन टाकरागुड़ा को चिन्हांकित कर जिला योजना एवं सांख्यिकी अधिकारी को प्रभारी अधिकारी बनाया गया है। भैंसगांव में बाढ़ आने की स्थिति में लोगों के अस्थायी तौर पर रहने के लिए माध्यमिक शाला भवन भैंसगांव चिन्हांकित कर उद्यान विभाग के उप संचालक को प्रभारी अधिकारी बनाया गया है।

हिरलाभाटा और सिवनी क्षेत्र में बाढ़ आने की स्थिति पर पालाबहार प्राथमिक शाला भवन को अस्थायी शिविर के रूप में चिन्हांकित कर लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के सहायक अभियंता को प्रभारी अधिकारी बनाया गया है। कोहकासिवनी में बाढ़ आने की स्थिति पर प्राथमिक शाला भवन मुण्डागांव को अस्थायी शिविर के रूप में चिन्हांकित कर ग्रामीण यांत्रिकी सेवा की बस्तर अनुविभागीय अधिकारी को प्रभारी अधिकारी बनाया गया है। राजपुर में बाढ़ आने की स्थिति पर प्राथमिक शाला भवन राजपुर को अस्थायी शिविर के रूप में चिन्हांकित कर महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी को, बेलगांव, तारापुर और बनियागांव क्षेत्र के बाढ़ प्रभावितों के लिए प्राथमिक शाला भवन तारापुर में बनाए जाने वाले अस्थायी शिविर के लिए ग्रामीण यांत्रिकी सेवा के कार्यपालन अभियंता को प्रभारी अधिकारी बनाया गया है। प्रभारी अधिकारियों के सहयोग हेतु खाद्य, चिकित्सा, स्वास्थ्य, विद्युत, वन और लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के एक-एक कर्मचारी को भी अनिवार्य रूप से लगाने के निर्देश दिये गये हैं। अस्थायी शिविरों के लिए नियुक्त किए गए प्रभारी अधिकारियों को राहत शिविर स्थल का मुआयना कर पेयजल, विद्युत एवं शौचालय की स्थिति का आंकलन करने के निर्देश दिए गए हैं, जिससे वहां की कमियों को समय रहते सुधार लिया जाए। प्रभारी अधिकारियों को यह भी निर्देशित किया गया है कि जिन राहत शिविरों में क्वांरटीन सेंटर बनाए गए हैं, उनको छोड़कर आस-पास स्थित अन्य शासकीय भवन का चिन्हांकन राहत शिविर स्थापित करने के लिए प्रस्तावित किया जाए। इसके साथ ही कोरोना संक्रमण एवं अन्य बीमारी के रोकथाम के लिए राहत शिविर स्थलों को सेनेटाईज करने के निर्देश भी दिए गए हैं।

इसे भी पढ़ें  जगदलपुर : सेवानिवृत्त पर दी गई भावभीनी विदाई पदोन्नत कर्मचारी का किया गया सम्मान

तैनात रहेगा बचाव दल

बाढ़ और अतिवर्षा से उत्पन्न स्थितियों को ध्यान में रखकर बाढ़ बचाव राहत दल की तैनाती सुनिश्चित की गयी है। कमाण्डेंट नगरसेना इसके प्रभारी अधिकारी बनाये गये हैं। उन्हें निर्देशित किया गया है कि तत्काल बाढ़ बचाव की तमाम सामग्रियों को सुधार करवा लें। यह भी निर्देशित किया गया है कि वे बाढ़ बचाव सामग्रियों की सूची तथा प्रशिक्षित जवानों की संख्या नाम सहित बाढ़ नियंत्रण कार्यालय को राजस्व शाखा में प्रस्तुत करेंगे, ताकि विषम स्थिति उत्पन्न होने पर दल को तत्काल राहत कार्य हेतु लगाया जा सके। विभाग के पास उपलब्ध नाव और नगरनिगम की नाव को भी चालू हालत में रखने के निर्देश दिए गए हैं।

वर्षा पूर्व नालियों की सफाई करा ली जाए

15 जून के पूर्व निगम क्षेत्र के समस्त नालियों की साफ-सफाई सुनिश्चित करवाने के निर्देश जगदलपुर के नगरनिगम आयुक्त दिये गये। साथ ही आसानी से नष्ट न होकर नालियों को चोक करने और शहर में जल भराव की स्थिति उत्पन्न करने वाले वस्तुओं की सफाई बेहतर ढंग से करने को कहा गया। इसी तरह ग्राम पंचायतों में भी तालाबों, नालों, पुल-पुलियों के निकासी मार्ग में जलप्रवाह को अवरूद्ध करने वाली पत्तियां और छोटी-छोटी झाड़ियों को भी साफ करने के निर्देश दिये गये और कहा गया कि जल प्रवाह नहीं होने की स्थिति में भी बाढ़ की संभावना बढ़ जाती है।

स्वास्थ्य विभाग जीवन रक्षक दवाओं और खाद्यान्नों का किया जाएगा भण्डारण

वर्षा के दिनों में पहुंचविहीन क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को जीवन रक्षक दवाईयां, खाद्यान्न एवं अन्य सभी आवश्यक वस्तुएं सतत् रूप से उपलब्ध होती रहे, इसके लिए इनका भण्डारण पहुंचविहीन क्षेत्रों में अभी से सुनिश्चित किये जाने को कहा गया है। स्वास्थ्य विभाग को मुख्य चिकित्सा एव स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देशित किया है कि वे सभी स्वास्थ्य केन्द्रों और गांवों के पंचायतों, डिपो होल्डरों के पास तथा मितानिनों के पास दवाईयों का पर्याप्त मात्रा में भण्डारण सुनिश्चित रखें। इसके साथ ही अस्थायी शिविरों में भी जीवन रक्षक दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित कराये जाने की व्यवस्था रखने और शिविरार्थियों का परीक्षण करने की भी व्यवस्था रखने के निर्देश भी दिए गए हैं।

इसे भी पढ़ें  दस माह में 43 हजार से अधिक मरीजों का किया गया स्वास्थ्य परीक्षण

जलस्तर की निगरानी करेंगे जल संसाधन विभाग के अधिकारी

अतिवर्षा से उत्पन्न होने वाली स्थितियों को ध्यान में रखकर जल संसाधन विभाग के अधीक्षण यंत्री को उड़ीसा में स्थित खातीगुड़ा बांध के परियोजना अधिकारी के सतत सम्पर्क में रहने और डेम से पानी छोड़े जाने के कम से कम 24 घंटे पूर्व जिला प्रशासन को इसकी सूचना देने को कहा गया। इसके साथ ही जलस्तर की निगरानी नियमित रूप से करने को भी कहा गया।

सभी तहसीलों में वर्षामापक यंत्र

बस्तर जिले के सभी तहसीलों में वर्षामापक यंत्र स्थापित हैं। सभी तहसीलदारों को इन वर्षामापक यंत्रों की जांच कर तत्काल प्रतिवेदन देने के साथ ही प्रतिदिन वर्षा की जानकारी वायरलेस संदेश के जरिए जिला कार्यालय को अनिवार्य रूप उपलब्ध कराने के निर्देश दिये गये।

आकस्मिक व्यवस्था हेतु सभी इंतजाम सुनिश्चित

बचाव सामग्रियों की व्यवस्था लोक निर्माण विभाग द्वारा और बचाव दल की व्यवस्था संबंधित थाना प्रभारियों के द्वारा की जाएगी। इसके अतिरिक्त जिले के समस्त अनुविभागीय अधिकारी राजस्व अपने-अपने अनुविभाग में समाज सेवी संस्थाओं, व्यक्तियों और दानदाताओं की बैठक बुलाकर बाढ़ से उत्पन्न होने वाली स्थिति और उससे निपटने के उपाय के संबंध में पूर्व से ही चर्चा करेंगे तथा अनुभाग स्तर पर बाढ़ आपदा राहत समिति गठित करते हुए 15 दिनों के भीतर जिला कार्यालय को भी इसकी सूचना देंगे।

बाढ़ के पश्चात महामारी से निपटने की जाएगी आवश्यक व्यवस्था

बाढ़ खत्म होने के बाद महामारी फैलने की अत्यधिक संभावनाओं को देखते हुए इस पर तत्काल नियंत्रण की कार्यवाही सुनिश्चित करने को कहा गया। जल प्रदूषण को रोकने के लिए लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग जलस्रोतों का शुद्धिकरण और ’’क्लोरीनेशन’’ करने के साथ क्लोरीन टेबलेट भी जरूरतमंदों को प्रदान करने को कहा गया। इसके लिए पंचायतों को आवश्यक प्रशिक्षण भी दिए जाने के निर्देश दिए गए हैं। बिगड़े हैंडपंपों को भी सफाई कर सुधारे जाने के निर्देश दिए गए हैं। वहीं स्वास्थ्य विभाग को निर्देशित किया गया है कि वे प्रभावित क्षेत्रों में डीडीटी और कीटनाशक दवाईयों का छिड़काव करेंगे और सभी प्रभावित परिवार और व्यक्तियों का निःशुल्क स्वास्थ्य परीक्षण करेंगे। पशु चिकित्सा विभाग द्वारा बीमार और घायल पशुओं का उपचार और टीकाकरण किया जाएगा। संयुक्त संचालक पशु चिकित्सा को कहा गया है कि वे भू-जन्य और सामान्य रोगों के उपचार हेतु पर्याप्त औषधियों का भण्डारण रखें। वन विभाग के अधिकारियों से सम्पर्क कर चारे की व्यवस्था सुनिश्चित करें। वन विभाग को आवश्यकतानुसार बाढ़ के समय और बाढ़ के पश्चात इंधन के लिए लकड़ी और अस्थायी शिविर जहां बांस-बल्ली की आवश्यकता होगी, उसकी आपूर्ति व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा गया है। बैठक में अपर कलेक्टर श्री जगदीश सोनकर, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री प्रभात मलिक, सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

आपदा से बचाव के लिए आधुनिक सूचना तकनीकी का उपयोग करने के लिए करें प्रोत्साहित

कलेक्टर श्री बंसल ने कहा कि लोगों को आपदा से बचाने के लिए दामिनी, मेघदूत जैसे मोबाईल एप्प का उपयोग भी सहायक सिद्ध होगा। उन्होंने कहा कि इन मोबाईल एप्प के उपयोग के लिए लोगों को प्रोत्साहित करने से उन्हें आकाशीय बिजली और अतिवृष्टि जैसी सूचनाएं पूर्व ही मिल जाएंगी, जिससे वे स्वयं को सुरक्षित कर सकेंगे।

क्रमांक/613/अर्जुन

Source: http://dprcg.gov.in/

न्यूज़ अपडेट

न्यूज़ अपडेट

IPL Schedule 2022 Announced

The schedule for the Indian Premier League 2022 (IPL 2022) season has been announced, with Chennai Super Kings set to face Kolkata Knight Riders in the opener at the Wankhede Stadium in Mumbai on March 26. The BCCI announced the full scheduled in a press release on Sunday. “The Board of Control for Cricket in India…

रेडी टू ईट निर्माण

रायपुर। छत्तीसगढ़ में रेडी टू ईट पोषण आहार निर्माण और वितरण व्यवस्था के संबंध में वर्तमान में जारी व्यवस्था मार्च 2022 तक लागू रहेगी। राज्य सरकार द्वारा इस संबंध में जारी की गई नई पॉलिसी का क्रियान्वयन एक फरवरी 2022 से होना था, इसेे अब एक अप्रैल 2022 तक के लिए बढ़ा दिया गया है।…

कोदो, कुटकी और रागी की खरीदी अब 15 फरवरी तक

रायपुर। छत्तीसगढ़ में समर्थन मूल्य पर कोदो, कुटकी और रागी फसलों की खरीदी के लिए समयावधि अब 15 फरवरी 2022 तक बढ़ा दी गई है। इसके पहले इन फसलों की खरीदी के लिए 31 जनवरी तक की तिथि निर्धारित थी। गौरतलब है कि राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में वर्षा होने के कारण मिंजाई में हुई…

मानवीय हस्तक्षेप मुक्त होगी नल कनेक्शन प्रक्रिया

रायपुर। गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ की थीम पर काम करते हुए छत्तीसगढ़ शासन नागरिकों की सुविधाओं का लगातार विस्तार कर रही है। आनलाइन सेवाओं की वजह से नागरिकों के काम घर बैठे हो रहे हैं। इसी कड़ी में अब नल कनेक्शन के लिए भी नागरिकों को नगरीय निकाय कार्यालयों के चक्कर नहीं काटने होंगे। आम नागरिकों…

इसे भी पढ़ें  दंतेवाड़ा में पुलिस कैंप का विरोध फिर शुरू

मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य योजना 21 फरवरी तक सभी शहरों में

रायपुर। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने इस गणतंत्र दिवस पर राज्य के सभी शहरों की स्लम बस्तियों में रहने वालों को एक बड़ी सौगात दी है। अब यहां के रहवासियों को इलाज के लिए अस्पताल जाने या खून की जांच और अन्य स्वास्थ्य परीक्षण के लिए इधर-उधर नहीं भटकना पड़ेगा। अब उनके इलाके में मोबाइल…

अवैध रेत उत्खनन के विरूद्ध सख्त कार्रवाई के निर्देश

रायपुर । मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने अवैध रेत उत्खनन करने वालों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कलेक्टर और एसपी को निर्देश दिए हैं कि किसी भी जिले में अवैध रेत उत्खनन नहीं होना चाहिए। किसी भी जिले से अवैध रेत उत्खनन की शिकायत मिलने पर कलेक्टर और एसपी…

पीएमडी सीजी म्युजिक ने रि-लांच किया अपना चैनल….

पीएमडी सीजी म्युजिक ने दिलीप षडंगी के स्वर में दौना के पान के साथ अपना चैनल रि-लांच किया। आपको बता दें कि पीएमडी सीजी म्युजिक समय समय पर छत्तीसगढ़ी गाने लेकर आते रहा है। पीएमडी सीजी म्युजिक ने एक बार फिर दिलीप षडंगी की आवाज में दौना के पान के साथ अपना चैनल रि-लांच किया…

प्रभारी मंत्री ने किया कला केंद्र भवन का लोकार्पण

सूरजपुर। जिला प्रवास में प्रभारी मंत्री श्री शिव कुमार डहरिया ने आज नगर के वार्ड क्रमांक 16 में बने कला केंद्र भवन का फीता काटकर लोकार्पण किया। तत्पश्चात् माँ सरस्वती की छायात्रित पर पुष्पअर्पित कर दीप प्रज्जवलित किया गया।डा. शिव कुमार डहरिया ने कला केन्द्र के विभिन्न कक्षो का निरक्षण किया, जिसमें गायन कक्ष, नृत्य…

इसे भी पढ़ें  रायपुर : राज्यपाल राजधानी में और मुख्यमंत्री जगदलपुर में ध्वजारोहण कर परेड की सलामी लेंगे

​​​​​​​मंत्री श्री भगत ने ‘बुटेका एनीकट’ और ‘मारागांव तटबंध’ का किया निरीक्षण

रायपुर। खाद्य मंत्री एवं गरियाबंद जिले के प्रभारी मंत्री श्री अमरजीत भगत ने ग्राम बेंदकुरा के समीप सोंढूर नदी पर बने बुटेका एनीकट का आकस्मिक निरीक्षण किया। मंत्री श्री भगत 26 जनवरी को जिला मुख्यालय में गणतंत्र दिवस के अवसर पर ध्वजारोहण के पश्चात एनीकट का अवलोकन करने पहुंचे थे। आसपास के ग्रामीणों ने इसके…

उद्योग मंत्री कवासी लखमा ने दिव्यांग को बैटरी चलित ई-ट्राईसायकल प्रदान की

रायपुर। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री और दंतेवाड़ा जिले के प्रभारी मंत्री श्री कवासी लखमा ने बचेली स्थित रेस्ट हाउस परिसर में दिव्यांग श्री राम प्रसाद साहू को बैटरी चलित ई-ट्राईसायकल प्रदान किया। श्री राम प्रसाद साहू बचेली के वार्ड क्रमांक 5 के निवासी है, इससे पहले उन्हें सामान्य ट्राईसायकल उपलब्ध करायी गयी थी। बैटरी चलित…

कथित फर्जी डायरी कांड का 48 घंटे के भीतर पटाक्षेप

रायपुर। स्कूल शिक्षा विभाग के कथित फर्जी डायरी कांड का 48 घंटे के भीतर खुलासा करने पर रायपुर पुलिस का सम्मान किया गया है। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने रायपुर पुलिस के एसपी सहित पूरी टीम की सराहना की है। मंत्री डॉ. टेकाम ने आज सिविल लाईन स्थित पुलिस कंट्रोल रूम पहुंचकर…

इसे भी पढ़ें  दस माह में 43 हजार से अधिक मरीजों का किया गया स्वास्थ्य परीक्षण

राज्यपाल को नीट काउंसिलिंग संबंधी अनियमितता के संबंध में ज्ञापन दिया गया

रायपुर। राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके से डॉ. कुलदीप सोलंकी ने भेंट कर राज्य में नीट परीक्षा की काउंसिलिंग की प्रक्रिया में नियमों की अनदेखी किए जाने के संबंध में ज्ञापन सौंपा। उन्होंने कहा कि राज्य में अभी तक इसका रजिस्ट्रेशन शुरू नहीं किया गया है। यहां राज्य की मेरिट लिस्ट जारी किए बिना ही च्वाइस…

Leave a comment

Your email address will not be published.