रायपुर। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल कल 22 जुलाई को पूर्वान्ह 11.30 बजे अपने रायपुर स्थित निवास कार्यालय में आयोजित वर्चुअल कार्यक्रम में जांजगीर-चांपा जिले के चंद्रपुर में कलमा बैराज के प्रभावित 300 किसानों को भू-अर्जन की 22 करोड़ 78 लाख 90 हजार रुपए की मुआवजा राशि का वितरण करेंगे।
गौरतलब है कि कलमा बैराज का निर्माण जांजगीर-चांपा जिले के अंतर्गत ग्राम कलमा तथा रायगढ़ जिले के ग्राम बरगांव के मध्य महानदी पर 377.42 करोड़ रूपए की लागत से कराया गया है। इस बैराज की कुल लंबाई 1097.25 मीटर तथा ऊंचाई 6 मीटर है। बैराज की जल संग्रहण क्षमता 50.64 मी.घनमीटर है। इस बैराज से उद्योगों को जल प्रदाय के साथ-साथ पेयजल एवं निस्तारी की सुविधा भी ग्रामीणों को मिली है। किसान पानी लिफ्ट कर 311 हेक्टयेर में सिंचाई कर सकते है। इस बैराज से रायगढ़ जिले के 13 ग्रामों के 992 किसानों के 59.14 हेक्टेयर भूमि प्रभावित हुई थी, जिन्हें 14 करोड़ 70 लाख 54 हजार रूपए का मुआवजा भुगतान किया जा चुका है। इस बैराज के निर्माण से जांजगीर-चांपा जिले के 13 गांवों के 682 किसानों की भी 97.895 हेक्टेयर भूमि प्रभावित हुई है, जिसमें से लगभग 300 किसानों के मुआवजा निर्धारण में विभिन्न कारणों से विलंब हो रहा था, जिसे मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के मार्गदर्शन में जांजगीर-चांपा जिला प्रशासन द्वारा यथाशीघ्र कार्यवाही कर पात्र सभी प्रभावितों के मुआवजा प्रकरणों का निराकरण किया गया, जिन्हें 22 जुलाई को 22 करोड़ 78 लाख 90 हजार रूपए की मुआवजा राशि दी जाएगी।
कार्यपालन अभियंता जल संसाधन संभाग रायगढ़ ने बताया कि कलमा बैराज के निर्माण से जांजगीर-चांपा जिले के डभरा अनुभाग के 13 गांव- कलमा, महादेवपाली, चंद्रपुर, काशीडीह, चंदली, बिलाईगढ़ (प.), पलसदा, बिरहाभाटा, सिरौली, भैंसामुहान, बरहागुड़ा, गोपालपुर और हीरापुर की लगभग 97.967 हेक्टेयर कृषि भूमि बैराज के डूबान में आयी हैं।

न्यूज़ अपडेट

ताज़ातरीन

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *