रायपुर, 14 जून 2021

 राज्य कैम्पा योजनांतर्गत अधिकारियों-कर्मचारियों के क्षमता विकास के लिए ‘नरवा विकास‘ योजना से संबंधित बेस लाईन सर्वे और ‘मुख्यमंत्री प्रोत्साहन वृक्षारोपण‘ से संबंधित विषयों पर आयोजित एक दिवसीय कार्यशाला में नरवा विकास योजनांतर्गत उपचारित किए गए 07 नरवा से संबंधित जल ग्रहण क्षेत्र में किए गए मृदा एवं जल संरक्षण कार्यों के परिणाम का आंकलन किया गया। 

 कार्यशाला में मुख्य वन संरक्षक जगदलपुर एवं मुख्य वन संरक्षक वन्य-जीवन एवं क्षेत्रीय निदेशक इन्द्रावती टाईगर रिजर्व की उपस्थिति में मुख्यमंत्री वृक्षारोपण प्रोत्साहन योजना के संबंध में विस्तार से योजना क्रियान्वयन पर मुख्य वन संरक्षक श्री मोहम्मद शाहिद द्वारा व्यख्यान दिया गया। मुख्य वन संरक्षक वन्य जीवन एवं निदेशक इन्द्रवती टाईगर रिजर्व द्वारा नरवा विकास से संबंधित किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी गई। इसके अलावा कार्यशाला में नरवा विकास योजनांतर्गत मृदा एवं जल संरक्षण-संवर्धन, संरचना के निर्माण के संबंध में तकनीकी जानकारी, बेस लाईन सर्वेक्षण और सर्वेक्षण के बाद प्रतिफल का आंकलन, बेस लाईन सर्वेक्षण में वन संसाधन सर्वेक्षण, राज्य कैम्पा अंतर्गत नाला उपचार का अनुश्रवण एवं मूल्यांकन का प्रशिक्षण विषय-विशेषज्ञ इंजीनियर श्री आशीष नंदा, उपवन मंडलाधिकारी श्री एल.पी. सोनी, श्री सुनील राठौर, उप निदेशक कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान और श्री चन्द्रशेखर स्वरूप, सेवानिवृत्त सहायक वन संरक्षक द्वारा बेस लाईन सर्वे के संबंध में पावर पाइंट प्रदर्शन प्रस्तुत किया गया। 

 कार्यशाला में वनमंडल बस्तर, बीजापुर, सुकमा, दंतेवाड़ा, इन्द्रवती टाईगर रिजर्व एवं कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान के समस्त वन मंडलाधिकारी, उपवन मंडलाधिकारी, परिक्षेत्र अधिकारी, उपवन क्षेत्रपाल एवं वनरक्षक उपस्थित थे।

इसे भी पढ़ें  कोडरीपाल से ओडिशा जाना हुआ आसान, सीसी सड़क जो बन गई