छत्तीसगढ़ सरकार ने ग्रामीणों की सबसे बड़ी परेशानी अस्पताल और बेतर डॉक्टर और दवाइयों के समस्या को दूर करने के लिए डोक्टरों की एक टीम हर बाज़ार – हाट में उपलब्ध करा कर दूर कर दिया है. शासन के इस योजना का लोगों को बहुत अच्छा लाभ मिल रहा है. लोग छोटे – मोटे बीमारी के लिए भटकते रहते थे और निजी डॉक्टर उनको परेशां करने में कोई कमी नहीं छोड़ते थे.

छत्तीसगढ़ शासन द्वारा लोक स्वास्थ्य को प्राथमिकता देते हुए मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना की शुरूआत की गई है. जिस उद्देश्य के साथ यह योजना छत्तीसगढ़ के लोगों के लिए शुरू की गई है, परिणामों तथा ग्रामीणों के प्रतिक्रिया से इस योजना की सफलता का आंकलन किया जा सकता है. हाट-बाजार छत्तीसगढ़ के ग्रामीण परम्परा का प्रमुख द्योतक है. सुदूर ग्रामीण अंचलों में लगने वाले हाट-बाजार में ग्रामीण दूर-दराज से पहुंचते हैं, सप्ताह का यह एक दिन इन ग्रामीणों के लिए एक उत्सव जैसा अनुभव है. शासन ने इन हाट-बाजारों को चिन्हित करते हुए स्वास्थ्य सुविधाओं को अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने का जो लक्ष्य लिया है, निश्चित ही यह अभियान उस ओर अग्रसरित है.

इसे भी पढ़ें  अम्बिकापुर : गांव-गांव में स्वास्थय सुविधा पहुंचना हमारी प्राथमिकता-श्री भगत

छत्तीसगढ के़ सुदूर जिला बलरामपुर-रामानुजगंज में यह योजना जिला प्रशासन के माध्यम से लागू की गई है, चूंकि इस क्षेत्र में ऐसे दुर्गम इलाके हैं, जहां स्वास्थ्य सुविधाओं की त्वरित उपलब्धता नहीं है. यदि इन स्थानों के मरीजों को वहीं स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध हो जाएं, तो इससे बेहतर और क्या होगा. इसी क्रम में जिला प्रशासन द्वारा जिले के सभी 76 हाट-बाजारों में यह योजना लागू की गई है. इस योजना के अन्तर्गत डॉक्टर, स्टॉफ नर्स तथा अन्य स्वास्थ्य कर्मचारी संबंधित क्षेत्रों के हाट-बाजार में उपस्थित होकर मरीजों की जांच, ईलाज एवं निःशुल्क दवाईयों का वितरण किया जा रहा है. इस अभियान का ग्रामीणों को बहुत अधिक लाभ मिल रहा है, जिसे कुछ आंकड़ों के माध्यम से समझा जा सकता है. जिले में अगस्त माह में 108 हाट-बाजारो में मेडिकल टीम ने 4478 मरीजों का उपचार किया. इसी प्रकार सितम्बर माह में 262 हाट-बाजारों में मेडिकल टीम ने 6743 मरीजों तथा 1 से 23 अक्टूबर तक 154 हाट-बाजारों में मेडिकल टीम ने 2469 मरीजों का उपचार किया.

इसे भी पढ़ें  Tatapani

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *