World Environment Day
World Environment Day

जिला पंचायत के अध्यक्ष श्रीमति चंद्राकर ने कपाक  और कलेक्टर श्री एल्मा ने पीपल का पौधा रोपित कर की पौधा रोपण अभियान की शुरूआत

मुंगेली 05 जून 2021

विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री वृक्षारोपण अभियान के तहत पर्यावरण संरक्षण और संर्वधन के साथ-साथ  जिले को और अधिक हरा-भरा बनाने के लिए जिला मुख्यालय के समीप ग्राम करही स्थित शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के प्रागण में पौधा रोपण कर पौधा रोपण अभियान का आगाज किया गया। जिला पंचायत के अध्यक्ष श्रीमति लेखनी सोनू चंद्राकर ने कपाक, जिला पंचायत उपाध्यक्ष श्री संजीत बनर्जी ने कदम और कलेक्टर श्री पी.एस एल्मा ने पीपल का पौधा रोपण कर पौधा रोपण अभियान की शुरूवात की। इस अवसर पर जिला पंचायत सदस्य श्री वशी उल्लाह खॉ, पुलिस अधीक्षक श्री अरविंद कुजूर, जिला पंचायत के मुख्य कार्य पालन अधिकारी श्री रोहित व्यास, वनमण्डलाधिकारी श्री रामअवतार दुबे, नगर पालिका परिषद मुंगेली के पूर्व अध्यक्ष श्री अनिल सोनी, स्कूल के प्राचार्य श्री जे. एल धु्रव सहित जनप्रतिनिधियों, विभिन्न विभागों के जिलास्तरीय अधिकारियों ने भी विभिन्न प्रजातियों के पौधों का रोपण कर पौधा रोपण अभियान में अपनी सहभागिता सुनिश्चित की।

    जिला पंचायत के अध्यक्ष श्रीमति चंद्राकर ने कहा कि विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर पौधा रोपण अभियान की शुरूवात जिला प्रशासन की एक सराहनीय पहल है। इसके लिए उन्होने जिला प्रशासन और वन विभाग के अधिकारियों को अपनी बधाई और शुभकामनाएं दी। उन्होने कहा कि आज की परिस्थिति में पौधा रोपण की अत्यधिक आवश्यकता है। पौधे बड़े होकर वृक्ष बनेंगे और हमें प्राण वायु ऑक्सीजन देंगे, जो हमारे  खुशी, उल्लास और शांति का पर्याय है।  कलेक्टर श्री एल्मा ने कहा कि  जिले को और अधिक हरा-भरा बनाने के लिए बडी मात्रा में फलदार एवं छायादार पौधे लगाएं जाएंगे। इस हेतु जिले में बडे पैमाने पर पौधे उपलब्ध है। उन्होने कहा कि पौधे चिन्हाकित क्षेत्रों स्कूलों, आंगनबाड़ी केंद्रों और विभिन्न कार्यालयों के प्रागण में लगाएं जाएंगे। पौधो की देख-भाल और उनकी संरक्षण तथा संवर्धन सार्वोच्च प्राथमिकता है। उन्होने पर्यावरण संरक्षण और संर्वधन के लिए आम लोगों को भी बड़ी संख्या में पौधा रोपण करने की सलाह दी।  तत्पश्चात् वन विभाग द्वारा जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों और गणमान्य नागरिकों को एक-एक औषधि पौधे प्रदान कर उन्हे सम्मानित किया गया और दिये गये पौधे को रोपित करने और उनकी देख-भाल करने का आग्रह किया गया।    

इसे भी पढ़ें  जन्मेजय नेताम करेला एवं मिर्च की खेती कर हुए आत्मनिर्भर

क्रमांक//लहरे

Source: http://dprcg.gov.in/