Biodiversity Park Durg
Biodiversity Park Durg
  • कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे एवं डीएफओ श्री धम्मशील गणवीर ने किया तालपुरी स्थित बायोडायवर्सिटी पार्क का निरीक्षण
  • प्रकृति प्रेमियों के लिए सबसे सुंदर जगह बनाने कवायद तेज

दुर्ग 29 मई 2021

कल्पना कीजिए कि आप ऐसी जगह पर हों जहाँ पूरी तरह कमल से घिरा सरोवर हो, उसके ठीक बगल से बने ओपन थियेटर में कालिदास के सुंदर नाटक ऋतुसंहार का दृश्यांकन हो रहा हो, पक्षियों की चहचहाहट बैंकग्राउंड के म्यूजिक  की तरह हो तो यह बिल्कुल जन्नत सा दृश्य लगता है। यह जन्नत अब हकीकत की सतह पर उतरने वाला है। बायोडायवर्सिटी पार्क में यह सारी सुंदरताएं आने वाले कुछ समय में नजर आएंगी। आज कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे एवं डीएफओ श्री धम्मशील गणवीर ने आज तालपुरी स्थित बायोडायवर्सिटी पार्क का निरीक्षण किया और इन सबकी प्लानिंग की गई। इस दौरान अपर कलेक्टर सुश्री ऋचा प्रकाश चैधरी एवं जिला पंचायत सीइओ श्री सच्चिदानंद आलोक भी मौजूद थे। 250 एकड़ में फैले इस बायोडायवर्सिटी पार्क में वेटलैंड की वजह से अनेक प्रवासी पक्षियों का बसेरा भी होगा। हजारों पेड़ों की छाँव के बीच पाथवे में घूमते हुए लोग अपने को बिल्कुल प्रकृति के नजदीक पाएंगे।

इसे भी पढ़ें
Raipur: With improvement in the condition of corona infection, development work will now be done rapidly: Mr. Bhupesh Baghe

पैराडाईज फ्लाई केचर, ग्रेहाॅर्नबिल और व्हिसलिंग डक्स जैसे पक्षियों की होगी बसाहट- डीएफओ श्री धम्मशील गणवीर ने बताया कि पक्षियों की बसाहट के लिए तथा उनकी ब्रीडिंग के लिए पूरे सरोवर में फेंसिंग कराई जा रही है और पार्क में ओपन थियेटर और तालाबों में बोटिंग की व्यवस्था की जाएगी। उन्होंने एक तालाब को लोटस पांड के रूप में विकसित करने की बात भी कही। उन्होंने कहा कि यह शानदार वेटलैंड है और स्वाभाविक तौर पर यह पक्षियों के लिए बेहतर बसावट बनेगा। भविष्य में यह पार्क पैराडाईज फ्लाई केचर, ग्रेहाॅर्नबिल और व्हिसलिंग डक्स जैसे पक्षियों का आशियाना बनेगा। उन्होंने बताया तालाब में जलकुंभी साफ करने का कार्य किया जा रहा है।

लैंडमार्क लगाए जाएंगे-कलेक्टर ने कहा कि यह काफी बड़ा पार्क है और यहां देखने के लिए दर्शकों को देखने के लिए काफी कुछ है रास्ते में लैंडमार्क लगा दिए जाएं तथा सामने ही रोडमैप रख दिया जाए तो लोगों को आसानी होगी।

इसे भी पढ़ें
नंदिनी की खाली पड़ी माइंस में बनेगा भारत का सबसे बड़ा मानव निर्मित जंगल

मेमोरियल काॅर्नर की प्रशंसा की -कलेक्टर ने इस पार्क में मेमोरियल काॅर्नर की विशेष रूप  से प्रशंसा की उन्होंने कहा कि लोगों ने यहां अपने प्रियजनों की स्मृति में पौधे लगाए हैं तथा भविष्य में भी यहां वे पौधे लगाएंगे। इस तरह से लोगों को प्रकृति से भावनात्मक रूप से जोड़ने यह पहल बहुत प्रशंसनीय है। मेमोरियल काॅर्नर बताता है कि प्रकृति की रक्षा कर ही हम अपने अस्तित्व की रक्षा भी कर सकते हैं।

हाल ही में हुआ था सघन पौधरोपण-उल्लेखनीय है कि बायोडायर्वसिटी पार्क पहले ही विविध प्रजातियों के पेड़ों को लेकर काफी समृद्ध क्षेत्र रहा है। हाल ही में यहां सघन पौधरोपण भी किया गया। यह पौधरोपण यहां बायोडायर्वसिटी को और भी समृद्ध करेगा। वेटलैंड का जिस तरह से यहां विकास किया जा रहा है उसके मुताबिक पौधे लगने से पक्षियों के लिए यह क्षेत्र आशियाने के रूप में बेहतर तरीके से विकसित हो सकेगा।

इसे भी पढ़ें
सिपकोना वितरक नहर को दशक बाद मिली गाद से मुक्ति

Read More

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *