Ganga Maiya Temple Jhalmala,Balod
Ganga Maiya Temple Jhalmala,Balod

गंगा मैया मंदिर छत्तीसगढ़ की बालोद तहसील में बालोद-दुर्ग रोड के पास झलमला में स्थित है|यह ऐतिहासिक महत्व वाला धार्मिक स्थल है। इस मंदिर का एक गौरवशाली आनंद और बहुत ही करामाती इतिहास है। मूल रूप से, गंगा मैया मंदिर का निर्माण एक स्थानीय मछुआरे द्वारा एक छोटी सी झोपड़ी के रूप में किया गया था। बालोद की एक स्थानीय धार्मिक मान्यता गंगा मैया मंदिर की उत्पत्ति से संबंधित है। प्रारंभ में, मंदिर एक छोटी सी झोपड़ी के रूप में बनाया गया था।

गंगा मैया मंदिर का इतिहास इस प्रकार है: एक बार गांव के पास तालाब में मछली पकड़ने वाले एक मछुआरे को मछली के साथ जाल में फंसी एक मूर्ति का सामना करना पड़ा। उसने अपने जाल से मूर्ति को पानी में निकालने के लिए कितनी भी कोशिश की, लेकिन वह अंदर ही अटकी रही। निराश होकर वह घर चला गया। उसी रात, एक आदिवासी ग्रामीण, गोंड ने एक सपना देखा कि “मछुआरे मेरी उपेक्षा कर रहे हैं और मुझे बाहर निकाल कर स्थापित हो जाओ”। इसे देवी गोंड के उपदेश के रूप में लेते हुए, आदिवासी अगली सुबह तालाब में गए और मूर्ति को पुनः प्राप्त कर, गाँव के पास एक “कच्ची” झोपड़ी में स्थापित कर दिया। चूंकि इसे पानी से लाया गया था, इसलिए मूर्ति का नाम गंगा मैया रखा गया।

Ganga Maiya Temple Jhalmala,Balod
Ganga Maiya Temple Jhalmala,Balod

प्रारंभ में, इसे श्री भीकम चंद तावरी द्वारा पुनर्निर्मित किया गया था और एक नया मंदिर आकार दिया गया था। इसके बाद, पूरी पुनर्निर्माण प्रक्रिया शुरू हुई और अब यह गतिविधियों से भरा प्रमुख स्थान है। ट्रस्ट मंदिर और अन्य मल्टीटास्किंग जैसे सांस्कृतिक गतिविधियों और ग्रामीणों की समस्या-समाधान की देखभाल करता है।

गरीब लोगों की सेवा के लिए समय-समय पर चिकित्सा शिविरों की व्यवस्था की जाती है; नि:शुल्क दवाएं बांटी जा रही हैं।

इसे भी पढ़ें  छत्तीसगढ़ टूरिज्म बोर्ड के प्रबंध संचालक का कार्यभार ग्रहण किया श्री यशवंत कुमार ने : राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी राम वन गमन पर्यटन परिपथ परियोजना के चिन्हांकित स्थलों के विकास कार्य होगी पहली प्राथमिकता

कई भक्तों ने अच्छी मात्रा में धनराशि दान की जिससे इसे एक उचित मंदिर परिसर में बनाने में मदद मिली।चूँकि यह बालोद – दुर्ग मार्ग पर स्थित है, इसलिए छत्तीसगढ़ के किसी भी जिले से मंदिर तक पहुँचना बिलकुल सुविधाजनक है

History

मां गंगा मैया मंदिर का इतिहास 130 साल पुराना है 130 साल पहले झलमला नामक गांव की आबादी तकरीबन 100 थी 

आज जहां पर मूर्ति स्थापित है वहीं पर तलाब हुआ करता था और तांदुला डैम बनने के बाद नहर निर्माण के लिए इस मूर्ति को हटाने के लिए अंग्रेजों द्वारा बहुत प्रयास किया गया, लेकिन अंग्रेज एडम स्मिथ के लाख प्रयासों के बाद भी इस मूर्ति को अपनी जगह से नहीं हटाया जा सका। और आज भी गंगा मैया उसी जगह पर विद्यमान है।

Temple Timing

गंगा माया मंदिर के दर्शन का समय सुबह: 6 बजे से 12 बजे तक है। और दोपहर 1 बजे से रात 9 बजे तक।

How to Reach:

मां गंगा मैया मंदिर झलमला दुर्ग शहर से बालोद जाने वाले रास्ते पर बालोद से 5 किलोमीटर पहले ही मिलता है।

By Air

Raipur is the nearest airport from all tourist place and distance from airport is about 125 kilometers approximately.

By Train

Heart of the town Balod has nearest railway station well connected to Durg Junction Railway station is about 58 kilometers.

By Road

Balod is 44 kilometers from Dhamtari, 58 kilometers from Durg, 60 kilometers from Rajnandgaon, 100 kilometers from Kanker, and 125 kilometers from Raipur.

आपको यह भी पसंद आ सकता हैं

राम वनगमन पथ मार्ग पर महासमुंद के ग्राम पीढ़ी में निर्मित उपवन का किया गया लोकार्पण

रायपुर ।  मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की पहल पर रामवनगमन पथ से जुड़े महत्वपूर्ण स्थलों को  पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित किया जा रहा है। भगवान राम जिन जगहांे से गुजरे थे उनमें से एक महासमुंद जिले के विकासखंड के ग्राम पीढ़ी में 08 लाख 62 हजार रूपए की लागत से उपवन निर्माण किया…

इसे भी पढ़ें  ठंड से बचाव हेतु वृद्धाश्रम, प्रशामक गृह और घरौंदा गृह में वितरण किए गए गरम कपड़े

चिन्गरा पगार वॉटरफॉल

300 फीट की ऊंचाई से गिरता है पानी पर्यटन की दृष्टि से छत्तीसगढ़ काफी धनी राज्य है। यहां बस्तर से लेकर अंबिकापुर तक आपको हर जगह मनोरम पहाड़ी तो दिखाई देगी ही, वहीं खूबसूरत जलप्रपात भी पर्यटकों को अपनी ओर अनायास ही आकर्षित कर लेते हैं। छत्तीसगढ़ के कई जलप्रपात विश्व पटल पर अपनी उपस्थिति…

सावन मास पर विशेष… झाड़ेश्वर महादेव

छत्तीसगढ़ और ओडिसा की सीमा पर बसे देवड़ा में घने वनों के बीच शिव का मंदिर है, जिसे झाड़ेश्वर महादेव के नाम से जाना जाता है। स्वयं-भू शिवलिंग यहां मंदिर में स्वयं-भू शिवलिंग है, जिसके दर्शन के लिए छत्तीसगढ़ के साथ-साथ सीमावर्ती राज्य ओडिसा से भी भक्त बड़ी संख्या में पहुंचते हैं। साल में दो…

नंदिनी की खाली पड़ी माइंस में बनेगा भारत का सबसे बड़ा मानव निर्मित जंगल

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के निर्देश पर बनाया गया प्रस्ताव, डीएमएफ से भी दी गई राशि 885 एकड़ क्षेत्रफल में लगाए जाएंगे 80 हजार से अधिक पौधे कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे एवं डीएफओ श्री धम्मशील गणवीर ने किया साइट निरीक्षण पूरा जंगल 2500 एकड़ में फैला होगा पर्यावरण के पुनः संरक्षण अथवा इकोलॉजिकल रीस्टोरेशन…

घुनघुट्टा बांध | Ghunghutta Dam, Ambikapur

Ghunghutta Dam | घुनघुट्टा बांध, Ambikapur अंबिकापुर विकासखंड के ग्राम लिबरा में स्थित मध्यम सिंचाई परियोजना श्याम घुनघुट्टा बहोत ही बड़ा बांध है इसका मुख्य उद्देश्य खेतो की सिचाई है यह अंबिकापुर से लगभग १६-२० किलोमीटर की दुरी में है तो दोस्तों कैसा लगा यह वीडियो मुझे कमेंट करके जरूर बताएं और अगर आप मेरे…

इसे भी पढ़ें  सुरक्षाकर्मी एवं सुपरवाईजर हेतु पंजीयन शिविर के आयोजन के लिए तिथि निर्धारित

भूतेश्वर नाथ मंदिर, गरियाबंद

Bhuteshwar Nath Mandir – भूतेश्वर नाथ मंदिर छत्तीसगढ़ की राजधानी से महज 90 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है गरियाबंद जिला। जिला मुख्यालय से तीन किलोमीटर की दूरी पर बसे ग्राम मरौदा के जंगलों में प्राकृतिक शिवलिंग ‘भूतेश्वर महादेवÓ स्थित है। पूरे विश्व में इसकी ख्याति हर वर्ष बढऩे वाली इसकी ऊंचाई के कारण है।…

Sidhkhol Waterfall (सिद्धखोल जलप्रपात), Balodabazar

सिद्धखोल जलप्रपात जो बारिश होते ही अपने शबाब पर रहता है. इसकी इसी खूबसूरती के कारण बारिश के दिनों में दूर-दूर से पर्यटक इसका नजारा देखने पहुंचते हैं. हर साल की तरह इस साल भी लोग सिद्धखोल जलप्रपात का खूबसूरत नजारा देखने पहुंच रहे हैं. 90 फीट की ऊंचाई से बहता है झरना बलौदाबाजार जिला…

न्यूज़ अपडेट

न्यूज़ अपडेट

IPL Schedule 2022 Announced

The schedule for the Indian Premier League 2022 (IPL 2022) season has been announced, with Chennai Super Kings set to face Kolkata Knight Riders in the opener at the Wankhede Stadium in Mumbai on March 26. The BCCI announced the full scheduled in a press release on Sunday. “The Board of Control for Cricket in India…

रेडी टू ईट निर्माण

रायपुर। छत्तीसगढ़ में रेडी टू ईट पोषण आहार निर्माण और वितरण व्यवस्था के संबंध में वर्तमान में जारी व्यवस्था मार्च 2022 तक लागू रहेगी। राज्य सरकार द्वारा इस संबंध में जारी की गई नई पॉलिसी का क्रियान्वयन एक फरवरी 2022 से होना था, इसेे अब एक अप्रैल 2022 तक के लिए बढ़ा दिया गया है।…

कोदो, कुटकी और रागी की खरीदी अब 15 फरवरी तक

रायपुर। छत्तीसगढ़ में समर्थन मूल्य पर कोदो, कुटकी और रागी फसलों की खरीदी के लिए समयावधि अब 15 फरवरी 2022 तक बढ़ा दी गई है। इसके पहले इन फसलों की खरीदी के लिए 31 जनवरी तक की तिथि निर्धारित थी। गौरतलब है कि राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में वर्षा होने के कारण मिंजाई में हुई…

मानवीय हस्तक्षेप मुक्त होगी नल कनेक्शन प्रक्रिया

रायपुर। गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ की थीम पर काम करते हुए छत्तीसगढ़ शासन नागरिकों की सुविधाओं का लगातार विस्तार कर रही है। आनलाइन सेवाओं की वजह से नागरिकों के काम घर बैठे हो रहे हैं। इसी कड़ी में अब नल कनेक्शन के लिए भी नागरिकों को नगरीय निकाय कार्यालयों के चक्कर नहीं काटने होंगे। आम नागरिकों…

इसे भी पढ़ें  Shivani Temple | शिवानी मां मंदिर | Kanker

मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य योजना 21 फरवरी तक सभी शहरों में

रायपुर। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने इस गणतंत्र दिवस पर राज्य के सभी शहरों की स्लम बस्तियों में रहने वालों को एक बड़ी सौगात दी है। अब यहां के रहवासियों को इलाज के लिए अस्पताल जाने या खून की जांच और अन्य स्वास्थ्य परीक्षण के लिए इधर-उधर नहीं भटकना पड़ेगा। अब उनके इलाके में मोबाइल…

अवैध रेत उत्खनन के विरूद्ध सख्त कार्रवाई के निर्देश

रायपुर । मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने अवैध रेत उत्खनन करने वालों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कलेक्टर और एसपी को निर्देश दिए हैं कि किसी भी जिले में अवैध रेत उत्खनन नहीं होना चाहिए। किसी भी जिले से अवैध रेत उत्खनन की शिकायत मिलने पर कलेक्टर और एसपी…

पीएमडी सीजी म्युजिक ने रि-लांच किया अपना चैनल….

पीएमडी सीजी म्युजिक ने दिलीप षडंगी के स्वर में दौना के पान के साथ अपना चैनल रि-लांच किया। आपको बता दें कि पीएमडी सीजी म्युजिक समय समय पर छत्तीसगढ़ी गाने लेकर आते रहा है। पीएमडी सीजी म्युजिक ने एक बार फिर दिलीप षडंगी की आवाज में दौना के पान के साथ अपना चैनल रि-लांच किया…

प्रभारी मंत्री ने किया कला केंद्र भवन का लोकार्पण

सूरजपुर। जिला प्रवास में प्रभारी मंत्री श्री शिव कुमार डहरिया ने आज नगर के वार्ड क्रमांक 16 में बने कला केंद्र भवन का फीता काटकर लोकार्पण किया। तत्पश्चात् माँ सरस्वती की छायात्रित पर पुष्पअर्पित कर दीप प्रज्जवलित किया गया।डा. शिव कुमार डहरिया ने कला केन्द्र के विभिन्न कक्षो का निरक्षण किया, जिसमें गायन कक्ष, नृत्य…

इसे भी पढ़ें  बालोद जिले के चहुॅमुखी विकास के लिए शासन की कल्याणकारी योजनाओं का बेहतर क्रियान्वयन करें - मंत्री श्री उमेश पटेल

​​​​​​​मंत्री श्री भगत ने ‘बुटेका एनीकट’ और ‘मारागांव तटबंध’ का किया निरीक्षण

रायपुर। खाद्य मंत्री एवं गरियाबंद जिले के प्रभारी मंत्री श्री अमरजीत भगत ने ग्राम बेंदकुरा के समीप सोंढूर नदी पर बने बुटेका एनीकट का आकस्मिक निरीक्षण किया। मंत्री श्री भगत 26 जनवरी को जिला मुख्यालय में गणतंत्र दिवस के अवसर पर ध्वजारोहण के पश्चात एनीकट का अवलोकन करने पहुंचे थे। आसपास के ग्रामीणों ने इसके…

उद्योग मंत्री कवासी लखमा ने दिव्यांग को बैटरी चलित ई-ट्राईसायकल प्रदान की

रायपुर। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री और दंतेवाड़ा जिले के प्रभारी मंत्री श्री कवासी लखमा ने बचेली स्थित रेस्ट हाउस परिसर में दिव्यांग श्री राम प्रसाद साहू को बैटरी चलित ई-ट्राईसायकल प्रदान किया। श्री राम प्रसाद साहू बचेली के वार्ड क्रमांक 5 के निवासी है, इससे पहले उन्हें सामान्य ट्राईसायकल उपलब्ध करायी गयी थी। बैटरी चलित…

कथित फर्जी डायरी कांड का 48 घंटे के भीतर पटाक्षेप

रायपुर। स्कूल शिक्षा विभाग के कथित फर्जी डायरी कांड का 48 घंटे के भीतर खुलासा करने पर रायपुर पुलिस का सम्मान किया गया है। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने रायपुर पुलिस के एसपी सहित पूरी टीम की सराहना की है। मंत्री डॉ. टेकाम ने आज सिविल लाईन स्थित पुलिस कंट्रोल रूम पहुंचकर…

इसे भी पढ़ें  Giraudpuri Dham, Balodabazar

राज्यपाल को नीट काउंसिलिंग संबंधी अनियमितता के संबंध में ज्ञापन दिया गया

रायपुर। राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके से डॉ. कुलदीप सोलंकी ने भेंट कर राज्य में नीट परीक्षा की काउंसिलिंग की प्रक्रिया में नियमों की अनदेखी किए जाने के संबंध में ज्ञापन सौंपा। उन्होंने कहा कि राज्य में अभी तक इसका रजिस्ट्रेशन शुरू नहीं किया गया है। यहां राज्य की मेरिट लिस्ट जारी किए बिना ही च्वाइस…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *