shivani maa temple kanker
shivani maa temple kanker

यह मंदिर कांकेर शहर में स्थित है। इस मंदिर को शिवानी मां मंदिर कहा जाता है। देवी की मूर्ति उत्तम है। एक मिथक के अनुसार यह देवी दो देवी नाम काली मां और दुर्गा मां का मेल है। देवी काली का लंबवत आधा भाग और शेष आधा भाग देवी दुर्गा का है। पूरे विश्व में इस प्रकार की प्रतिमा की संख्या मात्र दो है। एक कोलकाता में है और दूसरा कांकेर में। इस मंदिर में नवरात्रि पर्व धूमधाम से मनाया जाता है। इस मंदिर में सभी धर्मों के लोगों की आस्था है।

शिवानी मंदिर, कांकेर को शिवानी मां मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस मंदिर में देवी दो देवी दुर्गा मां और काली मां का संयोजन है। कांकेर का खूबसूरत शहर कांकेर जिले में एक नगर पालिका है। कांकेर जिला छत्तीसगढ़ के दक्षिणी क्षेत्र में स्थित है। जिले से होकर बहने वाली पांच नदियों में हटकुल नदी, महानदी नदी, तुरु नदी, सिंदूर नदी और दूध नदी शामिल हैं।

History:

शिवानी मंदिर, छत्तीसगढ़ शहर के सबसे पुराने मंदिरों में से एक है। यह मंदिर लंबे समय से दुनिया भर से पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता आ रहा है। मंदिर की संरचना मंदिरों के निर्माण की प्राचीन शैली को दर्शाती है और एक जातीय और पारंपरिक रूप को दर्शाती है।

Description:

शिवनी मंदिर में देवी काकर दो देवीयों से मिलकर बनती है। दोनों देवी हैं काली मा और दुर्गा मा। देवी का आधा दुर्गा मा और आधा काली मा है। संसार में इस मूर्ति के केवल दो उदाहरण हैं। एक कानकर में है और दूसरा कोलकाता में है। भारत के कंकर में शिवनी मंदिर नवरथरी उत्सव आयोजित करने के लिए प्रसिद्ध है। इस उत्सव के दौरान दुनिया भर से और पूरे भारत से हजारों पर्यटक कानकर जाते हैं।

इसे भी पढ़ें  कांकेर जिले में 25 सरपंच, 197 पंच पद के लिए होगा निर्वाचन

Architecture:

मंदिर की संरचना मंदिरों के निर्माण की प्राचीन शैली को दर्शाती है और एक जातीय और पारंपरिक रूप को दर्शाती है। ऐसा कहा जाता है कि अगर कोई मूर्ति को लंबवत रूप से देखता है, तो एक आधा देवी काली है, शेष आधा देवी दुर्गा का है। किसी मूर्ति की ऐसी स्थापत्य भव्यता विश्व में केवल दो ही स्थानों पर मौजूद है- एक यहां कांकेर, छत्तीसगढ़ और दूसरी कोलकाता में है।

शिवानी मंदिर फोटो गैलरी

How to Reach

The Dhamtari Railway Station is nearest railhead (50km).

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *